राष्ट्रीय

कुश्ती संघ विवादः बजरंग पूनिया ने सरकार की निगरानी समिति पर उठाया सवाल, गठन में सलाह नहीं लेने पर जताई निराशा



पिछले हफ्ते दिल्ली में धरने पर बैठे पहलवानों ने भारतीय कुश्ती महासंघ पर कई अनियमितताओं के आरोप लगाए गए थे, जिसमें कोच और डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष बृज भूषण शरण सिंह पर शासन में कुप्रबंधन और महिला पहलवानों के साथ यौन उत्पीड़न करने के आरोप भी शामिल हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

Engagement: 0

भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष और बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह पर खिलाड़ियों के यौन उत्पीड़न और अनियमितताओं के आरोप लगाने वाले पहलवानों में शामिल ओलंपिक पदक विजेता बजरंग पूनिया ने मंगलवार को सरकार द्वारा बनाई गई निगरानी समिति पर सवाल उठाया है और इस बात पर निराशा व्यक्त की है कि समिति के गठन से पहले पहलवानों से सलाह नहीं ली गई।

टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाले बजरंग पुनिया ने ट्विटर पर कहा, “हमें आश्वासन दिया गया था कि निगरानी कमेटी के गठन से पहले हमसे सलाह ली जाएगी। यह बहुत दुख की बात है कि इस समिति के गठन से पहले हमसे सलाह भी नहीं ली गई।” अपने ट्वीट में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और खेल मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर को भी टैग किया है।

सोमवार को केंद्रीय खेल और युवा मामलों के मंत्री अनुराग ठाकुर ने एमसी मैरी कॉम की अगुवाई वाली पांच सदस्यीय निगरानी समिति के गठन की घोषणा की, जिसमें ओलंपिक पदक विजेता योगेश्वर दत्त और भारत की पूर्व बैडमिंटन खिलाड़ी तृप्ति मुरगुंडे, टारगेट ओलंपिक पोडियम स्कीम (टॉप्स) के पूर्व सीईओ कैप्टन राजगोपालन और साई की पूर्व कार्यकारी निदेशक (टीम) राधिका श्रीमन शामिल हैं।

ओलंपियन बजरंग पुनिया, साक्षी मलिक, विनेश फोगाट, रवि दहिया और दीपक पुनिया के नेतृत्व में पहलवानों के एक समूह के धरने पर बैठने के बाद ठाकुर ने पिछले हफ्ते डब्ल्यूएफआई की दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को संभालने के लिए निगरानी समिति के गठन की घोषणा की थी। जंतर मंतर पर बैठे पहलवानों ने भारतीय कुश्ती महासंघ पर कई अनियमितताओं के आरोप लगाए गए, जिसमें कोच और डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष बृज भूषण शरण सिंह द्वारा शासन में कुप्रबंधन और महिला पहलवानों के यौन उत्पीड़न के आरोप भी शामिल हैं।

इससे पहले, मंत्री ने यह भी बताया था कि बृजभूषण शरण सिंह को निगरानी कमेटी द्वारा जांच पूरी होने तक डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष के रूप में काम करना बंद करने के लिए कहा गया है और डब्ल्यूएफआई के दिन-प्रतिदिन के कामकाज में हस्तक्षेप नहीं करने के लिए कहा गया है। दिल्ली में अनुराग ठाकुर के आवास पर दूसरी बैठक के बाद भारतीय पहलवानों ने पिछले शुक्रवार रात अपना विरोध प्रदर्शन बंद कर दिया था।




Source link