अंतराष्ट्रीय

विश्व बैंक ने दी वैश्विक आर्थिक मंदी की चेतावनी, कई देशों में आर्थिक मंदी आने की आशंका तेज, जानें वजह



विश्व बैंक के अध्यक्ष डेविस मैल्पस ने कहा कि ‘स्टैगफ्लेशन’ की संभावना और भी बढ़ गई है। ‘स्टैगफ्लेशन’ उस आर्थिक स्थिति को कहते हैं, जब आर्थिक विकास दर स्थिर रहती है और मुद्रास्फीति दर तथा बेरोजगारी दर में तेजी बढ़ोतरी दर्ज की जाती है।

‘स्टैगफ्लेशन’ की स्थिति से निपटना किसी भी देश के लिए चुनौतीपूर्ण कहा जाता है। आमतौर पर मुद्रास्फीति दर पर काबू पाने के लिए केंद्रीय बैंक प्रमुख नीतिगत दरों में बढ़ोतरी करते हैं लेकिन इससे बेरोजगारी और बढ़ जाती है तथा आर्थिक विकास दर भी प्रभावित होती है।

डेविड मैल्पस ने कहा,” ऊर्जा और खाद्य पदार्थो के दाम दुनिया भर में बढ़ रहे हैं। यूक्रेन में जारी जंग, चीन में लगा लॉकडाउन, आपूर्ति श्रृंखला बाधा और ‘स्टैगफ्लेशन’ का जोखिम विकास संभावनाओं को क्षति पहुंख रहा है। कई देशों के लिए आर्थिक मंदी की स्थिति से बचना मुश्किल हो जाएगा।”

उन्होंने कहा,” दुनिया के कई देशों में निवेश की कमी के कारण विकास दर अगले एक दशक तक कम पर रहेगी। कई देशों में मुद्रास्फीति दर कई दशकों के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है और आपूर्ति बाधा भी बढ़ने की संभावना है। ऐसे में महंगाई के लंबे समय तक उच्चतम स्तर पर बने रहने का जोखिम है।”



Source link