PPF ELSS
पैसा बनाओ

PPF और NPS स्कीम से आप बनेंगे करोड़पति! इस सपने को सच करने के लिए समझिये ये पूरा कैलकुलेशन



हाइलाइट्स

पब्लिक प्रोविडेंट फंड पर मिलने वाली वर्तमान ब्याज दर 7.1 फीसदी है.
एनपीएस का रिटर्न बाजार से लिंक होता है इसमें ज्यादा जोखिम होने से हाई रिटर्न मिल सकता है.
15 से 25 वर्ष तक की अवधि में इन योजनाओं में निवेश करके एक करोड़ की रकम जुटाई जा सकती है.

नई दिल्ली. लंबी अवधि तक छोटी-छोटी बचत और निवेश के जरिए बड़ी रकम जुटाई जा सकती है. चाहे इक्विटी, म्यूचुअल फंड, बॉन्ड या कोई अन्य सरकारी योजना हो सभी में लंबे समय तक निवेश करने पर अच्छा पैसा मिलता है. इस तरह की बचत का उद्देश्य कई लक्ष्यों की पूर्ति करना हो सकता है. इनमें रिटायरमेंट प्लानिंग से लेकर बच्चों की पढ़ाई और शादी आदि वजह शामिल है. इन सभी लक्ष्यों के लिए दो योजनाएं विशेष रूप से लाभकारी है. ये पब्लिक प्रोविडेंट फंड अकाउंट (PPF) और नेशनल पेंशन स्कीम (NPS) है. क्योंकि लंबी अवधि की इन बचत योजनाओं में अच्छा ब्याज भी मिलता है. लेकिन क्या ये मुमकिन है कि ये दोनों योजनाएं किसी निवेशक को करोड़पति बना सकती है?

हालांकि, इन बचत योजनाओं के जरिए करोड़पति बनने की संभावना इस बात पर निर्भर करती है कि बचत कहां से और कब शुरू करते हैं. दूसरे शब्दों में, नौकरी पाने के बाद जितनी जल्दी आप पीपीएफ और एनपीएस स्कीम में निवेश शुरू कर देंगे, तो लंबी अवधि में बड़ा फायदा होगा और ये रकम लाखों या करोड़ में हो सकती है, लेकिन आपके निवेश के योगदान के आधार पर.

ये भी पढ़ें- Income Tax बचाने के हैं कई तरीके, जानिए कहां और कैसे निवेश कर आप पा सकते हैं टैक्‍स छूट

PPF और NPS में ऐसे करें निवेश, बन जाएंगे करोड़पति!

पब्लिक प्रोविडेंट फंड और नेशनल पेंशन स्कीम, ये दोनों योजनाएं केंद्र सरकार द्वारा समर्थित हैं. दोनों के बीच मुख्य अंतर यह है कि पीपीएफ में निश्चित रिटर्न मिलता है और एनपीएस का रिटर्न बाजार से लिंक होता है यानी इसमें जोखिम ज्यादा हो सकता है और रिटर्न भी ज्यादा मिल सकता है.

पीपीएफ पर मिलने वाली वर्तमान ब्याज दर 7.1 फीसदी है. इसके जरिए हर साल अधिकतम 1.5 लाख प्रति वर्ष का निवेश करके करोड़पति 25 साल की अवधि में करोड़पति बना जा सकता है. हालांकि, पीपीएफ खाते की अवधि 15 वर्ष है और परिपक्वता पर पीपीएफ निवेशक को केवल 40.6 लाख जमा करेगा. इसलिए एक करोड़ के आंकड़े तक पहुंचने के लिए निवेशक को 5 साल के ब्लॉक में दो बार पीपीएफ खाते का विस्तार करना होगा और यह रकम बढ़कर 1.03 करोड़ हो जाएगी. ध्यान रहे कि यह जरूरी नहीं है कि पीपीएफ अकाउंट पर ब्याज की दर 25 वर्षों तक समान रहे. इसलिए मैच्योरिटी पर मिलने वाला रिटर्न प्रभावित हो सकता है.

वहीं, एनपीएस में सालाना 1.5 लाख रुपये निवेश के साथ 10% सीएजीआर मानकर 20.5 वर्षों में 1 करोड़  जमा किया जा सकता है. एनपीएस में पीपीएफजैसे अधिकतम निवेश पर कोई रोक नहीं है. तो, 2.86 लाख प्रति वर्ष निवेश करके 15 वर्षों में 1 करोड़ जमा कर सकते हैं. पीपीएफ में 25 साल के निवेश की तुलना में जहां कोई लगभग 1.03 करोड़ जमा कर सकता है, एनपीएस निवेशक लगभग 1.6 करोड़ जमा कर पाएंगे.

Tags: Investment and return, NPS, PPF account



Source link