राष्ट्रीय

क्यों है आज भारत जोड़ो यात्रा की जरूरत, क्या है इसका मकसद, जानें राहुल गांधी ने क्या कहा



राहुल गांधी ने कहा कि आज 3-4 बड़ी कंपनियां हैं जो पूरे भारत को कन्ट्रोल करती हैं। प्रधानमंत्री उनकी मदद के बिना एक दिन नहीं टिकेंगे। वे मीडिया को नियंत्रित करते हैं और तय करते हैं कि पीएम 24 घंटे टीवी पर हों। बदले में, पीएम उनके हित में नीतियां लाते हैं।

फोटोः @INCIndia
फोटोः @INCIndia
user

Engagement: 0

तमिलनाडु के कन्याकुमारी से कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा की औपचारिक शुरूआत हो गई है। राहुल गांधी ने यात्रा का आगाज करते हुए यात्रा की जरूरत और मकसद के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि देश आज मुश्किल दौर से गुजर रहा है। आज सबको जोड़ने की जरूरत है। इस यात्रा का मकसद सांप्रदायिकता के खिलाफ और धर्मनिरपेक्ष भावना के लिए देश के लोगों को जोड़ना, करोड़ों भारतीयों की आवाज को बुलंद करना, देश में मौजूदा समस्याओं के बारे में सीधे जनता से संवाद स्थापित करना है।

जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने यात्रा के मकसद के बारे में लोगों को बताया। उन्होंने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा को भारत के लोगों की आवाज़ को सुनने के लिए डिजाइन किया गया है। हम आरएसएस और बीजेपी की तरह भारत के लोगों की आवाज़ को दबाना नहीं चाहते, हम भारत के लोगों को सुनना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि आज हमारी हर संस्था पर बीजेपी और आरएसएस के हमले हो रहे हैं। उन्हें लगता है कि तिरंगा उनकी निजी संपत्ति है और वे अकेले ही इस देश और सभी राज्यों के लोगों का भविष्य निर्धारित कर सकते हैं। भारत अपने लोगों पर एक विचार थोपने का नाम नहीं है। हर एक व्यक्ति का इतिहास, भाषा और संस्कृति है भारत।

राहुल गांधी ने कहा कि आज देश में ऐसा क्या हो रहा है कि इतने सारे लोग, लाखों-करोड़ों लोग महसूस करते हैं कि भारत को एक साथ लाने के लिए कदम उठाने की आवश्यकता है? आज भारत अपने सबसे खराब आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। बेरोजगारी का उच्चतम स्तर जो हमने कभी नहीं देखा है। दुर्भाग्य से, मीडिया के हमारे दोस्त पूरी तरह से नियंत्रित हैं। इसे हर कोई समझता है लेकिन टेलीविजन पर आप कभी बेरोजगारी या महंगाई नहीं देखेंगे। आप केवल प्रधानमंत्री की छवि देखेंगे। बीजेपी सरकार ने इस देश के किसानों, मजदूरों और छोटे व मध्यम व्यवसायों पर व्यवस्थित हमला किया है। मुट्ठी भर बड़े कारोबारी आज पूरे देश को नियंत्रित करते हैं। हर एक उद्योग को मुट्ठी भर उद्योगपतियों द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि उन दिनों इसे ईस्ट इंडिया कंपनी कहा जाता था। यह एक बड़ी कंपनी थी जिसने पूरे भारत को नियंत्रित किया। आज 3-4 बड़ी कंपनियां हैं जो पूरे भारत को नियंत्रित करती हैं। विमुद्रीकरण, त्रुटिपूर्ण जीएसटी, तीन किसान विरोधी कानून, ये सभी उन्हीं कुछ व्यवसायियों की मदद के लिए बनाए गए हैं। यह विचार बहुत कुछ वैसा ही है जैसा अंग्रेज करते थे- भारत को बांटो, भारतीयों को आपस में लड़ाओ और भारतीयों से चोरी करो। प्रधानमंत्री उनके समर्थन के बिना एक दिन भी नहीं टिकेंगे। वे मीडिया को नियंत्रित करते हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि पीएम 24 घंटे टीवी स्क्रीन पर हों। बदले में, पीएम उन नीतियों को अंजाम देते हैं जो उनके हित में होती हैं।

राहुल गांधी ने कहा कि उन्हें लगता है कि वे ईडी, सीबीआई और इनकम टैक्स का इस्तेमाल कर विपक्ष को डरा सकते हैं। समस्या यह है कि वे भारतीय लोगों को नहीं समझते हैं। चाहे वे कितने भी घंटे की पूछताछ करें, एक भी विपक्षी नेता बीजेपी से नहीं डरने वाला है। बीजेपी सोचती है कि वे इस देश को धर्म और भाषाओं के आधार पर बांट सकते हैं। इस देश को विभाजित नहीं किया जा सकता है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि छोटे और मझोले व्यवसायों और हमारे किसानों द्वारा नौकरियां पैदा की जाती हैं। आज छोटे और मझोले कारोबारियों को बीजेपी ने पंगु बना दिया है। किसान मुश्किल से बच रहे हैं। नतीजा: भारत के लिए अपने युवाओं के लिए रोजगार सृजित करना असंभव है। आज जब हमारे युवा कमाई नहीं कर सकते और कीमतें लगातार बढ़ रही हैं। हम बुरे समय की ओर बढ़ रहे हैं। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हम भारत के लोगों को एक साथ लाएं, सुनिश्चित करें कि हम एकजुट हैं ताकि भारत मजबूत हो। यही भारत जोड़ो यात्रा का उद्देश्य है। यात्रा भारत के लोगों को सुनने के लिए डिज़ाइन की गई है। हम आरएसएस और बीजेपी की तरह भारत की आवाज को कुचलना नहीं चाहते। हम भारत के लोगों की सच्चाई सुनना चाहते हैं।

जनसभा को संबोधित करने के बाद तमिलनाडु के सीएम एमके स्टालीन, अशोक गहलोत, भूपेश बघेल ने राहुल गांधी को खादी का तिरंगा सौंपा, जिससे हाथ में लेकर राहुल गांधी ने मंच से यात्रा का औपचारिक आगाज किया। 5 महीने तक चलने वाली यह यात्रा 3570 किलोमीटर के सफर में 12 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों से होते हुए कश्मीर पहुंचेगी। आज से शुरू हुई भारत जोड़ो यात्रा के लिए 119 नेताओं के नामों की सूची तैयार की गई है, जो शुरू से लेकर अंत तक पदयात्रा करेंगे। इस अस्थायी सूची में राहुल गांधी के साथ कांग्रेस के युवा नेता कन्हैया कुमार, पवन खेड़ा और पंजाब के पूर्व मंत्री विजय इंदर सिंगला का भी नाम है। लिस्ट में युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष केशव चंद्र यादव और उत्तराखंड कांग्रेस के संचार विभाग के सचिव वैभव वालिया के अलावा कई महिला कार्यकर्ताओं के नाम भी शामिल हैं।




Source link