ताज़ा खबर

जब मेहनत का फल आएगा तो अन्य किसान भी होंगे प्रोत्साहित-जिला पंचायत अध्यक्ष निराकार पटेल


रायगढ़,  उद्यानिकी विभाग द्वारा आज विकासखंड पुसौर के ग्राम तेतला में सेव फलोद्यान किसान सह-प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित हुआ। जिसमें किसानों के रूचि के अनुरूप आज सेव उत्पादन के लिए पौधा प्रदान कर रोपण किया गया।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिला पंचायत अध्यक्ष  निराकार पटेल ने कहा की पुसौर विकासखंड के किसान हमेशा से प्रगतिशील रहे है, वो नवाचार के लिए स्वयं से प्रेरित होकर विभाग से जानकारी लेते है, जो प्रगतिशील किसान की पहचान है। ऐसे किसान आगे अन्य किसानों को भी नवाचार के लिए प्रेरित करेंगे और यही नवाचार और मेहनत का फल उन्हें जरूर मिलेगा। जो किसानों को धान के अलावा अन्य फसल लेने के लिए प्रोत्साहित करेगा। इससे रायगढ़ को एक अलग पहचान के साथ, किसानों को भी लाभ मिलेगा।
सीईओ जिला पंचायत अबिनाश मिश्रा ने कहा कि किसान नवाचार के लिए जल्दी तैयार नहीं होते, लेकिन यहां के किसानों द्वारा स्वयं आगे बढ़कर अन्य फसल लेने के लिए तैयार हो रहे है। हिमाचल, शिमला के सेव का उदाहरण देते हुए कहा कि नवाचार एक दिन में नहीं आता, किसी न किसी को आगे आना होता है उसके बाद ही परिवर्तन होता है। उन्होंने बताया कि ग्राम तेतला को चुनने का एक महत्वपूर्ण कारण शहर के पास होना है, जिससे किसानों को उपयुक्त बाजार मिल सके, इसके बाद लैलूंगा और धरमजयगढ़ के किसानों को प्रोत्साहित किया जाएगा। कार्यक्रम में सहायक संचालक उद्यानिकी डॉ.कमलेश दीवान ने कहा कि आज एक नवाचार की शुरुआत कि जा रही है, जो चीजें ठंडी प्रदेशों में की जाती थीं। आज इस ग्राम में प्रारंभ की जा रही है। पूर्व में कुछ जिलों में बेहतर परिणाम सामने आए है। जिले के जो भी किसान नवाचार करना चाहेंगे उन्हें विभागीय योजनाओं के अलावा हरसंभव सहायता प्रदान की जायेगी। इस दौरान किसानों ने फसलों में कीट एवं योजनाओं से संबंधित प्रश्न किए। जिसका डॉ.दीवान ने किसानों को अन्य फसलों कीट एवं योजनाओं की विस्तृत जानकारी प्रदान की।
योजना का लाभ लेने वाले किसान जगदीश गुप्ता ने कहा की उन्होंने सेव के फसल लेने से पूर्व इसके संबध में विभिन्न सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी ली। जिसके पश्चात उन्होंने उद्यान विभाग से संपर्क किया। जिला पंचायत सीईओ श्री मिश्रा एवं उद्यान विभाग के सहयोग अब उन्हें पर्याप्त पौधा मिला है। इसके बाद उन्हें विभागीय प्रशिक्षण भी प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा की क्षेत्र में धान की फसल अधिक होती, यही कारण है कि वे नवाचार करना चाहते है। उन्होंने बताया कि आज उनके साथ अन्य किसान भी सेव का फसल लेने के लिए आगे आ रहे है। उन्हे एक एकड़ के लिए 200 एवं डोल नारायण पटेल को डेढ़ एकड़ के लिए 300 सेव के पौधे प्रदान किए गए है। किसानों ने नवाचार एवं विभागीय सहयोग के लिए जिला प्रशासन को धन्यवाद दिया।
इस अवसर पर जिला पंचायत सदस्य  आकाश मिश्रा, जनपद अध्यक्ष सुशील भोई, जनपद उपाध्यक्ष  गोपी पटेल, जनपद सीईओ महेश पटेल, कृषि स्थाई समिति के सभापति श्री नंदे महाराज, सरपंच  दिनेश गुप्ता, बंशीधर भोय, मंच संचालन  लेखराम पटेल, ग्रामीण उद्यान विस्तार अधिकारी  विवेक पटेल एवं  दिलीप पैकरा,  भुनेश्वर बरेठ, उद्यान अधीक्षक  शिवशंकर सिंह सहित बड़ी संख्या में किसान एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।