छत्तीसगढ़

ट्विन टॉवर: महज 9 सेकेंड में गगनचुंबी इमारत होगी जमींदोज, देश के रियल स्टेट का पहला किस्सा इतिहास में होगा दर्ज



ध्वस्तीकरण के बाद करीब 28 हजार मीट्रिक टन मलबे का निस्तारण सेक्टर-80 के सीएंडडी वेस्ट प्रोसेसिंग प्लांट पर साइंटिफिक तरीके से किया जाएगा। साफ-सफाई के लिए चार मैकेनिकल और 100 सफाईकर्मी मौजूद रहेंगे। सड़क फुटपाथ सेंट्रल वर्ज और पेड़ पौधों की धुलाई के लिए 50 वाटर टैंकर्स लगाए जाएंगे। पार्क में धूल के निस्तारण के लिए तीन वाटर टैंकर लगाए गए हैं।

पुलिस ने सुबह 7 बजे से ट्विन टावर के आसपास की सड़कों को किया बंद

इसके साथ ही इमारत को ध्वस्त करने के दौरान आवगमन पर भी असर पड़ेगा, इसलिए ट्रैफिक पुलिस ने सुबह 7 बजे से ट्विन टावर के आसपास की सड़कों को बंद कर दिया है और किसी को भी बाहर नहीं जाने दिया जा रहा है। बहुत ज्यादा इमरजेंसी होने पर ही गाड़ी को बाहर जाने की परमिशन मिल रही है।

नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर चलने वाले वाहनों को भी ब्लास्ट के दौरान रोक दिया जाएगा, ब्लास्ट के करीब आधे घंटे तक यह ट्रैफिक रुका रहेगा। मौजूदा स्थिति को देखकर समय सीमा बढ़ भी सकती है। सिर्फ फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस गाड़ियों को इमरजेंसी में जाने की इजाजत है।

अस्पतालों में इमरजेंसी सुविधा को लेकर अलर्ट

साथ ही साथ ट्विन टावर के आसपास के जिन अस्पतालों को इमरजेंसी सुविधा के लिए चयनित किया गया है, अगर किसी को इमरजेंसी में वहां ले जाना पड़ा तो उसके लिए अलग कॉरिडोर बनाकर उसे वहां ले जाया जाएगा।

ट्विन टावर में एक 103 मीटर ऊंचा है तो दूसरा टावर 97 मीटर ऊंचा है, इन दोनों टावर को गिराने के लिए सोसाइटी में रहने वाले लोगों ने लंबी लड़ाई लड़ी। पहले यह मामला इलाहाबाद हाईकोर्ट पहुंचा तो उसके बाद यह सुप्रीम कोर्ट पहुंचा। दोनों अदालतों ने इस टावर को गिराने का आदेश दिया था।

एपेक्स टावर 32 फ्लोर का और सियान टावर 29 फ्लोर का है। दोनों टॉवर में 915 फ्लैट थे, जिनमें से 633 फ्लैट बुक हो चुके थे। वहीं कंपनी ने इन फ्लैट बायर्स से 180 करोड़ की वसूली भी की, अब सुपरटेक को 12 फीसदी की दर से इन बायर्स को पैसे लौटाने होंगे।



Source link