छत्तीसगढ़

कुश्ती संघ में ‘दंगल’ के बीच गोंडा में रैंकिंग टूर्नामेंट भी टला, निराश होकर लौटे खिलाड़ियों ने जताई नाराजगी



भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पर यौन उत्पीड़न के लगे आरोप के बीच पूरे कुश्ती संघ में उथल-पुथल मची हुई है। इस बीच गोंडा में चल रहे रैंकिंग टूर्नामेंट को भी रद्द कर दिया गया है। खेल मंत्रालय के गोंडा में आयोजित नेशनल ओपन रैंकिंग टूर्नामेंट को रद्द करने के आदेश के बाद प्रतियोगिता में हिस्सा लेने आए खिलाड़ियों को निराश होकर लोटना पड़ा। दूसरे राज्यों से प्रतियोगिता में हिस्सा लेने आए पहलवान काफी नाराज दिखे। मंत्रालय की तरफ से जारी चिट्ठी में लिखा गया है कि सभी प्रतिभागियों को एंट्री फीस वापस कर दी जाए, लेकिन खिलाड़ियों का कहना है कि उनकी सारी मेहनत बेकार चली गई है।

मायूस होकर खिलाड़ी अपने घर के लिए लौट रहे हैं। अपने राज्य लौट रहे खिलाड़ियों ने कहा कि टूर्नामेंट जारी रहना चाहिए था। अब टूर्नामेंट के लिए उन्हें 1 महीने का इंतजार करना पड़ेगा। खिलाड़ियों ने कहा कि वजन बनाए रखना एक पहलवान के लिए बड़ी चुनौती होती है। उन्होंने कहा कि मामले की जांच जारी रहनी चाहिए। साथ ही इससे पहलवानों की तैयारी प्रभावित नहीं होनी चाहिए।

एक तरफ जहां टूर्नामेंट को रद्द कर दिया गया। वहीं, खेल मंत्रालय के आदेश को ध्यान में रखते हुए रविवार को अयोध्या में होने वाली कुश्ती महासंघ की जनरल बॉडी मीटिंग भी रद्द कर दी गई। अब 4 हफ्ते तक यह बैठक नहीं हो सकेगी।

WFI और उसके प्रमुख पर लगे गंभीर आरोपों की जांच के फैसले और कमेटी के गठन के ऐलान के बाद खेल मंत्रालय ने शनिवार को दो बड़े फैसले लिए, जिसमें कुश्ती महासंघ के असिस्टेंट सेक्रेटरी विनोद तोमर पर निलंबित कर दिया गया। विनोद तोमर पर अनुशासनहीनता को लेकर कार्रवाई किए जाने की बात कही गई है। कुश्ती महासंघ के असिस्टेंट सेक्रेट्री विनोद तोमर का एक दिन पहले ही बृजभूषण सिंह के समर्थन में बयान दिया था। विनोद तोमर ने कहा था कि कुश्ती फेडरेशन और बृजभूषण सिंह पर लगे आरोप निराधार हैं।

इसे भी बढ़ें: अयोध्या में आज होने वाली कुश्ती संघ की बैठक रद्द, खेल मंत्रालय ने लगाई थी रोक, क्या थी बृजभूषण की तैयारी?



Source link