राष्ट्रीय

देश के सबसे प्रदूषित शहरों की लिस्ट जारी, नंबर वन पर है बिहार का ये शहर, जानें कितने नंबर पर है दिल्ली?



पीएम 2.5 और पीएम 10 क्या है?

अब यह जानते हैं कि आखिर पीएम 2.5 और पीएम 10 क्या है? पीएम 2.5 और पीएम 10 वायु गुणवत्ता को मापने का पैमाना है। पीएम का मतलब होता है पार्टिकुलेट मैटर जो कि हवा के अंदर सूक्ष्म कणों को मापते हैं। पीएम 2.5 और 10 हवा में मौजूद कणों के आकार को मापते हैं। पीएम का आंकड़ा जितना कम होगा हवा में मौजूद कण उतने ही अधिक छोटे होंगे।

हवा में पीएम 2.5 की मात्रा 60 और पीएम10 की मात्रा 100 होने पर ही हवा को सांस लेने के लिए सुरक्षित माना जाता है। गैसोलीन, तेल, डीजल ईंधन या लकड़ी के दहन से पीएम 2.5 का अधिक उत्पादन होता है। अपने छोटे आकार के कारण, पार्टिकुलेट मैटर फेफड़ों में गहराई से खींचा जा सकता है और पीएम 10 की तुलना में अधिक हानिकारक हो सकता है।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)



Source link