वारदात

छावला गैंगरेप के दोषियों को सुप्रीम कोर्ट ने बरी किया, हाईकोर्ट ने जानवर बताते हुए दी थी फांसी की सजा



सिगरेट से दागा, तेजाब भी डाला

मामले में दिल्ली के नजफगढ़ में दर्ज केस में कहा गया कि आरोपी लड़की को गाड़ी में बिठाकर दिल्ली से बाहर ले गए थे। गैंगरेप के दौरान उसके शरीर को सिगरेट से दागा और चेहरे पर तेजाब भी डाला गया। उसके शरीर पर कार में रखे औजारों से हमले के निशान भी पाए गए थे। इस केस में रवि कुमार, राहुल और विनोद को आरोपी बनाया गया था।

पुलिस ने सजा कम करने का किया विरोध

हाईकोर्ट से सजा बरकरार रहने पर दोषियों ने उसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर की थी। मामले में दिल्ली पुलिस ने सजा कम करने का विरोध किया था और कहा था कि यह अपराध केवल पीड़िता के खिलाफ नहीं है, बल्कि यह समाज के खिलाफ भी अपराध है। यह जघन्य अपराध है। हम दोषियों को किसी भी तरह की राहत दिए जाने के खिलाफ हैं। पीड़ित लड़की के पिता ने भी मांग की थी कि मामले के दोषियों को फांसी की सजा दी जाए।



Source link