राष्ट्रीय

JNU में PM मोदी की आलोचना वाली BBC डॉक्‍यूमेंट्री देख रहे छात्रों पर पथराव, कई छात्र घायल, ABVP पर पत्थरबाजी का आरोप



JNUSU अध्यक्ष आइशी घोष ने बताया कि हमने 25 लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है, पुलिस ने आश्वासन दिया है कि वे तहकीकात करेंगे। जिन लोगों को चोट लगी है वे भी इलाज के बाद पुलिस स्टेशन में अपना बयान देंगे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

Engagement: 0

गुजरात दंगों पर बनी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाली BBC डॉक्‍यूमेंट्री देख रहे छात्रों पर जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों पथराव हुआ है। इस पथराव में कई छात्र घायलो हो गए हैं। छारों को अस्पताल ले जाया गया है। JNU के छात्रों ने मंगलवार रात 9 बजे डाक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग करने की घोषणा की थी। हालांकि इस स्क्रीनिंग से पहले छात्रसंघ कार्यालय में बिजली काट दी गई। जेएनयू प्रशासन ने डॉक्‍यूमेंटी की स्‍क्रीनिंग की इजाजत देने से इनकार कर दिया था।

बताया जा रहा है कि जेएनयू कैंपस में ‘ब्लैकआउट’ के बाद छात्र कैंपस के अंदर एक कैफेटेरिया पहुंचे, जहां उन्होंने अपने सेलफोन और लैपटॉप पर डॉक्यूमेंट्री देखी। खबरों के मुताबिक, जिस समय वे डॉक्यूमेंट्री देख रहे थे, उसी दौरान झाड़ियों के पीछे से उन पर पथाराव किया गया। एबीवी के छात्रों पर पथराव का आरोप लगा है।

बीबीसी डॉक्‍यूमेंट्री देख रहे स्‍टूडेंट्स पर पथराव के मामले में छात्र शिकायत दर्ज कराने के लिए पुलिस थाने तक मार्च किया। वसंतकुंज पुलिस के शिकायत दर्ज करने के बाद जेएनयू के छात्रों ने मार्च खत्म कर दिया। JNUSU अध्यक्ष आइशी घोष ने बताया कि हमने 25 लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है, पुलिस ने आश्वासन दिया है कि वे तहकीकात करेंगे। जिन लोगों को चोट लगी है वे भी इलाज के बाद पुलिस स्टेशन में अपना बयान देंगे। उन्होंने कहा कि हम फिल्हाल हमारे प्रदर्शन को अभी रोकते हैं, पुलिस प्रशासन से अपील है कि वे इसकी तहकीकात करें।

छात्रसंघ की अध्यक्ष आयशी घोष ने दावा किया कि जेएनयू प्रशासन ने बिजली काटी। साथ ही इंटरनेट भी बंद कर दिया गया है। हालांकि बाद में ऑफिस में बिजली और इंटरनेट बहाल कर दिया गया। उन्होंने कहा कि पूरे मामले की बुधवार को जेएनयू प्रशासन से भी शिकायत करेंगे।

केंद्र सरकार ने शुक्रवार को पीएम मोदी की आलोचना वाली बीबीसी डॉक्यूमेंट्री शेयर करने वाले ट्वीट ब्लॉक करने का आदेश दिया था। वहीं, जेएनयू प्रशासन ने चेतावनी दी थी कि अगर डॉक्यूमेंट्री दिखाई गई तो अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी।




Source link