शराब घोटाले में आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो (EOW) और एंटी करप्शन ब्यूरो (ACB) की टीम ने दूसरे दिन शुक्रवार को भी बड़ी कार्रवाई की.


एक्सक्लूसिव 12 April 2024 (273)
post

     Azaad-bharat/रायपुर -छत्‍तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में हुए दो हजार करोड़ रुपये के शराब घोटाले में आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो (EOW) और एंटी करप्शन ब्यूरो (ACB) की टीम ने दूसरे दिन शुक्रवार को भी बड़ी कार्रवाई की. जांच एजेंसी ने कारोबारी अनवर ढेबर के भाइयों के घर पर छापेमारी की है. EOW ने रायपुर महापौर एजाज ढेबर के साथ अख्तर ढेबर और जुनैद ढेबर के घर छापा मारा है. सुबह 6 बजे से 16 अधिकारी दबिश देकर जांच में जुटे हैं. बताया जा रहा है कि शराब घोटाला मामले में कई अन्य लोगों की भी गिरफ्तारी हो सकती है. ACB और EOW ने अनवर ढेबर के वेनिंगटन होटल में भी दबिश दी है.

इधर, शुक्रवार को एसीबी और ईओडब्ल्यू की गिरफ्त में आए अरुणपति त्रिपाठी के साथ कारोबारी अनवर ढेबर और अरविंद सिंह को कोर्ट पेश किया गया. बताया जा रहा है कि अनवर ढेबर और अरविंद सिंह को तीसरी बार रिमांड पर लेने की पूरी तैयारी की गई है, क्योंकि बिहार से अरुणपति त्रिपाठी की गिरफ्तारी के बाद उसे भी रिमांड पर लिया जाएगा. तीनों को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ करने के संकेत अधिकारियों ने दिए है. गुरुवार को आबकारी विभाग के पूर्व सचिव अरुणपति (एपी) त्रिपाठी को गिरफ्तार किया गया. त्रिपाठी, बिहार के गोपालगंज के भोरे में अपने एक रिश्तेदार के यहां छिपे थे.

टीम जिन स्थानों में छापे की कार्रवाई करने पहुंची थी, उन स्थानों से उसने दस्तावेज जब्त किए हैं. किसी को भी हिरासत में नहीं लिया गया है. दस्तावेज किस प्रवृत्ति के हैं, स्पष्ट नहीं हो सका है. EOW की टीम ने सदर बाजार स्थित हवाला कारोबारी के ठिकाने से कई महत्वपूर्ण जब्त किए हैं. सूत्रों के अनुसार ईओडब्ल्यू को शराब घोटाले की रकम को विदेश में निवेश करने की जानकारी मिली है. हालांकि जांच टीम ने अभी प्राप्त राशि की जानकारी नहीं दी है.

You might also like!



RAIPUR WEATHER