राष्ट्रीय

बृजभूषण सिंह को झटका, कई खिलाड़ियों ने नेशनल चैंपियनशिप का किया बहिष्कार, खाप भी आईं पहलवानों के समर्थन में



कुश्ती खिलाड़ियों की लड़ाई लंबी खिंचने वाली है, क्योंकि कल खेल मंत्री के साथ हुई उनकी बैठक से भी बर्फ नहीं पिघली है। उधर कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह अभी भी पीछे हटने को तैयार नहीं हैं और साफ कह रहे हैं कि वे कुश्ती संघ से इस्तीफा नहीं देंगे।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

Engagement: 0

भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष और बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ कई पदक विजेता पहलवानों के प्रदर्शन के बाद अब कई खिलाड़ियों ने भी मोर्चा खोल दिया है। गोंडा के नंदिनी नगर स्थित कुश्ती स्टेडियम में आयोजित नेशनल चैंपियनशिप खेलने आए हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के आधा दर्जन से अधिक खिलाड़ी बिना मैच खेले ही वापस लौट गए हैं। इन खिलाड़ियों का कहना है कि वे दिल्ली के जंतर-मंतर पर बैठे खिलाड़ियों के समर्थन में बिना खेले वापस जा रहे हैं।

उधर दिल्ली में जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे अंतरराष्ट्रीय पहलवानों के समर्थन में हरियाणा की खापें भी उतर गई हैं। फोगाट खाप ने पहलवानों का समर्थन किया है। गुरुवार को फोगाट खाप के आह्वान पर सर्वजातीय सर्वखाप पंचायत हुई। फोगाट खाप के प्रधान बलवंत नंबरदार ने बताया कि चरखी दादरी जिले के स्वामी दयाल धाम पर हुई इस पंचायत में खिलाड़ियों के समर्थन में कई फैसले लिए गए। साथ ही कुश्ती संघ के अध्यक्ष के इस्तीफे की मांग भी की गई। हरियाणा के पहलवानों के समर्थन में धनखड़ खाप भी आ गई है। शुक्रवार को चरखी दादरी से दिल्ली के लिए चले फोगाट खाप के लोगों का झज्जर में धनखड़ खाप ने स्वागत किया।

गोंडा से बिना मैच खेले ही वापस जा रहे हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के आधा दर्जन से अधिक खिलाड़ियों का कहना है वे स्वेच्छा से मैच नहीं खेल रहे हैं और दिल्ली के जंतर-मंतर पर बैठे भाई-बहनों के समर्थन में बिना खेले वापस जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम पहले जंतर-मंतर पर जाएंगे, उसके बाद घर चले जाएंगे। खिलाड़ियों ने कहा कि उनका मनोबल गिर चुका है और यहां की व्यवस्थाएं भी नेशनल लेवल के प्रतियोगिता के स्तर की नहीं हैं। इन खिलाड़ियों का कहना है कि उन्हें अपने सीनियर्स के साथ खड़ा होना है और हम किसी भी कीमत पर यहां नहीं रहेंगे।

खिलाड़ियों ने बताया कि गोंडा में होने वाली नेशनल चैंपियनशिप में सबसे ज्यादा खिलाड़ी हरियाणा से आते हैं लेकिन इस बार कुश्ती संघ के अध्यक्ष पर जिस तरीके के गंभीर आरोप लगे हैं, उसको लेकर खिलाड़ी इस मीट में मुकाबला नहीं करना चाहते। पहले हरियाणा-पंजाब-हिमाचल के लगभग 5000 खिलाड़ी इस प्रतियोगिता में आते थे, लेकिन इस बार सिर्फ 1200 खिलाड़ी ही आए हैं और उनमें से भी कई वापस जा रहे हैं।

गोंडा के नंदिनी नगर में शनिवार से नेशनल चैंपियनशिप प्रतियोगिता का आयोजन हो रहा है। इस नेशनल चैंपियनशिप में हिस्सा लेने के लिए महाराष्ट्र, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, मध्य प्रदेश समेत कई प्रदेशों के खिलाड़ी पहुंचे हैं। शुक्रवार को कुश्ती संघ के अध्यक्ष और सांसद बृजभूषण शरण सिंह इन खिलाड़ियों से मिलने पहुंचे थे। इस दौरान सिंह ने नेशनल चैंपियनशिप प्रतियोगिता की तैयारी का जायजा लेते हुए कहा था कि कई एथलीट मेरे साथ हैं।

उधर दिल्ली के जंतर-मंतर पर आज भी खिलाड़ियों का प्रदर्शन जारी है। सुबह होते ही आज भी जंतर-मंतर पर खिलाड़ियों का जमावड़ा होने लगा। लग रहा है कि कुश्ती खिलाड़ियों की ये लड़ाई लंबी खिंचने वाली है, क्योंकि कल आधी रात तक केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ हुई खिलाड़ियों की बैठक से भी बर्फ नहीं पिघल पाई है। कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह अभी भी इस्तीफा देने को तैयार नहीं हैं। बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह पीछे हटने को राजी नहीं हैं और साफ कह रहे हैं कि वे इस्तीफा नहीं देंगे।




Source link