छत्तीसगढ़

देश में विभाजनकारी ताकतों का उभार खतरनाक, विपक्ष को बनानी होगी रणनीति, लड़ाई के लिए साथ आना होगा- राहुल गांधी



राहुल गांधी ने कहा कि भारत एक ऐसा देश है जो सद्भाव, करुणा और विनम्रता के लिए जाना जाता था लेकिन आज हम ऐसा देश देख रहे हैं जो नफरत, क्रोध और अहंकार से भरा हुआ है। घृणा, क्रोध और अहंकार भारतीयों का स्वभाव नहीं है। हमारी सरकार सद्भाव को नष्ट करने पर आमादा है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

Engagement: 0

भारत जोड़ो यात्रा के दौरान केरल के विभिन्न इलाकों से गुजर रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने गुरुवार को विपक्षी दलों से देश में मौजूदा विभाजनकारी ताकतों से निपटने के लिए रणनीति बनाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि विपक्ष को रणनीति बनानी होगी। उन्हें वैचारिक, वित्तीय और सरकारी शक्ति से लड़ने के लिए एक साथ आना होगा, जो अब देश में उभर कर सामने आ रहा है।

राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा के 12वें दिन केरल के त्रिस्सूर में कहा कि भारत एक ऐसा देश है जो सद्भाव, करुणा और विनम्रता के लिए जाना जाता था लेकिन आज हम ऐसा देश देख रहे हैं जो नफरत, क्रोध और अहंकार से भरा हुआ है। घृणा, क्रोध और अहंकार भारतीय लोगों का स्वभाव नहीं है। हमारी सरकार सद्भाव को नष्ट करने पर आमादा है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री द्वारा बोला गया प्रत्येक शब्द देश को विभाजित करने और लोंगो की भावनाओं को आहत करने के लिए बोला जाता है। उन्होंने कहा कि विनम्रता, करुणा और अहिंसा भारत और भारतीयता की पहचान हैं, इसके बिना हम भविष्य का सपना नहीं देख सकते।

भारत छोड़ो यात्रा का नेतृत्व कर रहे राहुल गांधी ने कहा कि धनबल और बाहुबल के खिलाफ हमारी लड़ाई है, लेकिन हम पीछे हटने वाले नहीं हैं। उन्होंने कहा कि हमारे देश में साम्प्रदायिकता और हिंसा के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए। भारत जोड़ो यात्रा देश में फैली इसी नफरत पर एक करारा प्रहार है।

भारत जोड़ो यात्रा 7 सितंबर को तमिलनाडु से शुरु हुई जो अभी केरल में है जो 19 दिनों में 43 विधानसभा और 12 लोकसभा क्षेत्रों में 453 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद 30 सितंबर को राज्य से बाहर निकलकर कर्नाटक में दाखिल होगी।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)




Source link