राष्ट्रीय

देशभर में PFI सदस्यों के ठिकानों पर छापे, हिरासत में लिए गए 50 लोग, दिल्ली के जामिया इलाके में धारा 144 लागू



राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) मंगलवार को दिल्ली समेत आठ राज्यों में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के सदस्यों से जुड़े कई स्थानों पर छापेमारी कर रही है। खबरों की मानें तो 50 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है और गिरफ्तारी पूछताछ के बाद की जाएगी। देश की राजधानी दिल्ली की बात करे तो दिल्ली में निजामुद्दीन, रोहिणी, जामिया और शाहीनबाग में छापेमारी चल रही है। जामिया इलाके में धारा 144 लागू है, शाहीन बाग में अर्ध सैनिक बल गश्त पर हैं।

इसके अलावा महाराष्ट्र के औरंगाबाद, जालाना, परभणी जिलों में, कर्नाटक के सिमोगा, बीदर, बल्लारी, हुबली, कलबुर्गी जिलों में, असम के नगरबेरा में, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मेरठ के बुलंदशहर का कस्बा स्याना, सरूरपुर और लिसारी गेट क्षेत्र में चल रही है। असम के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) (विशेष शाखा) हिरेन नाथ ने कहा कि उन्होंने नगरबेरा इलाके से पीएफआई के पांच सदस्यों को हिरासत में लिया है। डीजीपी ने कहा कि असम के कई जिलों में छापेमारी जारी है। एनआईए ने हाल ही में छापेमारी में 11 लोगों को गिरफ्तार किया था।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में चार लोगों को हिरासत में लिया गया है। सूत्र ने कहा, “हम उनसे पूछताछ कर रहे हैं। अभी तक उनमें से किसी के खिलाफ कोई गिरफ्तारी ज्ञापन दर्ज नहीं किया गया है। वे पीएफआई के सदस्य हैं। हमें पहले गिरफ्तार किए गए पीएफआई सदस्यों से पूछताछ के बाद ताजा जानकारी मिली है और हम छापेमारी कर रहे हैं।”

महाराष्ट्र में आतंकवाद निरोधी दस्ता (एटीएस) और स्थानीय पुलिस औरंगाबाद, जालाना और परभणी जिलों में छापेमारी कर रही है। कर्नाटक के सिमोगा, बीदर, बल्लारी, हुबली और कलबुर्गी इलाके में छापेमारी जारी है। पांच को सिमोगा से, चार को बल्लारी से, दो को हुबली से और छह को कोलार जिले से हिरासत में लिया गया है। बीदर जिला अध्यक्ष और कलबुर्गी मीडिया समन्वयक पीएफआई को हिरासत में लिया गया है।

इससे पहले सप्ताह में पीएफआई के 106 से अधिक सदस्यों को एनआईए और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गिरफ्तार किया था। पीएफआई के दो सदस्यों के खिलाफ सोमवार को लुकआउट सर्कुलर भी जारी किया गया था। एनआईए फिलहाल पीएफआई से जुड़े कुल 19 मामलों की जांच कर रही है। एनआईए ने कहा है कि इससे पहले साल 2010-2011 में करीब 46 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था और बाद में उन्हें दोषी ठहराया गया था। पीएफआई के करीब 355 सदस्यों के खिलाफ एजेंसी पहले ही चार्जशीट दाखिल कर चुकी है।

(IANS के इनपुट के साथ)



Source link