छत्तीसगढ़

नफरत के खिलाफ जारी रहेगी मेरी लड़ाई, मुझे गलत तरीके से दिखाने के लिए मीडिया पर खर्च किए गए हजारों करोड़: राहुल गांधी



कर्नाटक में ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का नेतृत्व करते हुए राहुल गांधी ने शनिवार को कहा कि, उन्हें झूठा बनाने के लिए और गलत तरीके से दिखाने के लिए हजारों करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

Engagement: 0

कर्नाटक में ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का नेतृत्व करते हुए राहुल गांधी ने शनिवार को कहा कि, उन्हें झूठा बनाने के लिए और गलत तरीके से दिखाने के लिए हजारों करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। तुमकुर जिले के तुरुवेकेरे शहर में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि, समझने की बात यह है कि मैं हमेशा एक निश्चित विचार के लिए खड़ा रहा हूं, जो बीजेपी और आरएसएस को परेशान करता है। हजारों करोड़ मीडिया का पैसा और ऊर्जा मुझे इस तरह से आकार देने के लिए खर्च की गई है जो असत्य और गलत है।

राहुल गांधी ने समझाया, वह मशीन जारी रहने वाली है। यह एक अच्छी तरह से तेल वाली, आर्थिक रूप से समृद्ध मशीन है। मेरी सच्चाई अलग है। यह हमेशा अलग है और जो लोग ध्यान से देखने की परवाह करते हैं वे देखेंगे कि मैं किसके लिए खड़ा हूं और मैं किसके लिए काम करता हूं।

‘सावरकर को मिलता था अंग्रेजों से पैसा’

भारत के विभाजन को लेकर पूछे गए एक सवाल पर राहुल ने कहा- आजादी की लड़ाई में सावरकर अंग्रेजों के लिए काम करते थे और उसे इसके लिए पैसे मिलते थे। राहुल ने आगे कहा- आरएसएस ने भी ब्रिटिश राज का समर्थन किया था और आज उनकी नफरत के खिलाफ ही भारत जोड़ो यात्रा निकाली जा रही है।

‘नफरत फैलाना देश विरोधी काम’

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने कहा, ‘मेरा मानना है कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि नफरत फैलाने वाला व्यक्ति कौन है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे किस समुदाय से आते हैं, नफरत और हिंसा फैलाना एक राष्ट्र विरोधी काम है और हम ऐसे लोगों के खिलाफ लड़ेंगे।’

‘तपस्या मेरे और मेरे परिवार की प्रकृति’

आगे राहुल ने कहा, मेरे लिए इस यात्रा का राजनीतिक मकसद भी है लेकिन इसका असली मकसद लोगों से सीधे संवाद करना है। तपस्या मेरे और मेरे परिवार की प्रकृति है। मैंने कार के द्वारा आराम से यात्रा न चुनकर परेशानी भरा कठिन रास्ता चुना। ये मेरे लिए एक सबक की तरह है। यह कार या हवाई जहाज में जाने या मीडिया के माध्यम से पहुंचने से बहुत अलग है।

राहुल गांधी ने कहा कि जैसा कि हम जानते हैं, बीजेपी और आरएसएस भारत की संस्थाओं का इस्तेमाल भारत के राजनीतिक वर्ग पर हमला करने के लिए करता है। यह वह युक्ति है जिसका वे उपयोग कर रहे हैं और इस तरह वे सरकार को गिराते हैं, दबाव बनाते हैं और हर एक व्यक्ति इसे विस्तार से समझता है।

‘भारत जोड़ो यात्रा का उद्देश्य भारत को एक साथ लाना’

गांधी ने कहा, भारत को एक साथ लाना है। मेरे दृष्टिकोण से उद्देश्य 2024 का चुनाव नहीं है। मैं देख रहा हूं कि भारत विभाजित हो रहा है, हमारे समाज में हिंसा फैल रही है और यह हमारे देश के लिए हानिकारक है। तीन मूलभूत मुद्दों पर भारत जोड़ो यात्रा निकाली जा रही है। सबसे पहले हिंसा, बीजेपी और आरएसएस जो नफरत फैला रहे हैं, देश का बंटवारा कर रहे हैं। दूसरा मुद्दा धन की भारी एकाग्रता है जो वह होने देते हैं। इसके परिणामस्वरूप कुछ ही लोग बहुत अधिक धनी हो रहे हैं और छोटे और मध्यम व्यवसायों और किसानों का विनाश हो रहा है। इसका परिणाम बेरोजगारी है। भारत एक बेरोजगारी आपदा की ओर बढ़ रहा है। तीसरा कीमतों में भारी वृद्धि है, यानी महंगाई।

आईएएनएस के इनपुट के साथ




Source link