छत्तीसगढ़

‘पीएम मोदी को 1 साल पहले ही पता चल गई थी महिला रेसलर्स से यौन शोषण की बात’, मुक्केबाज विजेंद्र बोले- PM की चुप्पी शर्मनाक



राजस्थान खेल परिषद अध्यक्ष कृष्णा पूनिया ने कहा, “जब समाज से कोई लड़की निकल कर अपने आपको आगे बढ़ाना चाहती है तो सबसे पहले उसकी लड़ाई समाज से होती है। वो लड़की उन जद्दोजहद से निकलकर दिन-रात एक करके, पसीना बहाकर देश के लिए मेडल जीतने की सोचती है। जब वह इस मुकाम पर जा रही होती है तो बीच में एक खबर आती है कि भारतीय कुश्ती संघ के जो अध्यक्ष हैं, बृजभूषण शरण सिंह वो यौन शोषण करते हैं। यह उस बेटी द्वारा आरोप लगाए गए हैं, जिसे प्रधानमंत्री ने कहा था कि तुम हमारी बेटी हो। उसी बेटी ने सवाल दागा है कि क्या इस देश में बेटी पैदा होनी ही नहीं चाहिए। इससे ज्यादा तकलीफ और दर्द की बात क्या हो सकती है? साथ-साथ मैं यह भी सवाल करती हूं कि एक तरफ तो हमारा देश पदक चाहता है और दूसरी तरहफ हम देखते है कि उन्हीं बेटियों का यौन शोषण होता है। आने वाली पीढ़ी, क्या वह मां-बाप अपने बच्चों को स्पोर्ट्स में भेजना चाहेंगे?”

कृष्णा पूनिया ने कहा, “मैं यहां पर विनेश फोगाट और उन सभी पहलवानों का धन्यवाद देती हूं कि इस मंच पर आकर उन्होंने इस बात को उठाया है। लेकिन तकलीफ इस बात की है कि माननीय प्रधानमंत्री जी को जब विनेश फोगाट ने करीब सवा साल पहले ही इन बातों से अवगत करा दिया था तो इस पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई?”

पूनिया ने ने आगे कहा, “72 घंटे के बाद भी यह शर्मनाक बात सड़कों पर चल रही है, लेकिन बीजेपी के नेताओं के द्वारा कोई ऐसा कदम नहीं उठाया गया। आपको ध्यान दिलाना चाहूंगी कि हरियाणा के मंत्री के द्वारा भी एक लड़की के साथ इसी तरीके की बात सामने आई थी। यह बात करीब डेढ़ महीने पहले की ही है, वह बात वहीं खत्म हो गई। क्या ऐसा ही इन पहलवानों के साथ भी होने वाला है। मैं महिला हूं, यह पीड़ा समझ सकती हूं। मैं उन दिनों को याद करती हूं, जब हम मेडल जीतकर आते थे। तब हमारे साथ हर कोई फोटो खिंचवाने के लिए तैयार रहता था। जब हमारी बेटियों का चीरहरण होता है तो उसके साथ कोई क्यों नहीं खड़ा होता है। ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ यह एक नारा है। इस नारे को बीजेपी के नेता तार-तार कर चुके हैं। बेटियों को इन नेताओं से बचाने की जरूरत है। मेरी मांग है कि जो फेडरेशन है वह पूरी तरह से भंग होनी चाहिए।”



Source link