अंतराष्ट्रीय

अमेरिका से बोले फिलस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास- इससे पहले कि बहुत देर हो जाए…



फिलस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने अमेरिकी सरकार से आग्रह किया है कि इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, इजरायल की नई सरकार द्वारा फिलिस्तीनियों के खिलाफ उठाए गए कदमों को रोकने के लिए हस्तक्षेप किया जाए। फिलिस्तीनी समाचार एजेंसी डब्ल्यूएएफए ने गुरुवार को बताया कि अब्बास ने अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन के साथ वेस्ट बैंक शहर रामल्ला में अपने कार्यालय में आयोजित एक बैठक के दौरान यह टिप्पणी की। डब्ल्यूएएफए के अनुसार, इजरायल सरकार के चरमपंथी उपायों को रोकने के लिए अमेरिका से हस्तक्षेप करने का आह्वान करते हुए फिलिस्तीनी राष्ट्रपति ने इजराइल पर क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए अवसरों को नष्ट करने का आरोप लगाया।

रिपोर्ट के अनुसार अब्बास ने सुलिवन को फिलिस्तीन और इजरायल के बीच हुए शांति समझौते का इजरायल द्वारा उल्लंघन करने की जानकारी दी। समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार फिलिस्तीनी नेता ने कहा कि अमेरिका को इजरायल के एकतरफा उपायों और उल्लंघनों को रोकना चाहिए, जिसमें बस्तियों का विस्तार, हत्याएं, फिलिस्तीनी शहरों और कस्बों पर हमला आदि शामिल है।

अब्बास ने सुलिवन से कहा, फिलिस्तीनी नेतृत्व इजरायली अपराधों को स्वीकार नहीं करेगा और उनका सामना करेगा और फिलिस्तीनी लोगों के अधिकारों, भूमि और पवित्रता की रक्षा करेगा।

अब्बास ने अमेरिका के दो-राज्य समाधान को संरक्षित करने, निपटान गतिविधि को रोकने और यरुशलम में कानूनी और ऐतिहासिक यथास्थिति बनाए रखने के लिए अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा करने के महत्व पर बल दिया।

उन्होंने वाशिंगटन से यरुशलम में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास कार्यालय को फिर से खोलने और वाशिंगटन में फिलिस्तीन लिबरेशन ऑर्गनाइजेशन (पीएलओ) कार्यालय को फिर से खोलने का भी आह्वान किया, जो पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के कार्यकाल के दौरान बंद कर दिया गया था।

जनवरी की शुरुआत से ही इजरायल और फिलिस्तीनियों के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। फिलिस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार इस वर्ष की शुरुआत से अब तक इजरायली सैनिकों द्वारा लगभग 17 फिलिस्तीनी मारे गए हैं और दर्जनों घायल हुए हैं।

फिलिस्तीनी अधिकारियों ने विशेष रूप से प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की अध्यक्षता में नई इजरायली सरकार के गठन के बाद फिलिस्तीनियों के खिलाफ इजरायल की उग्र गतिविधियों के खिलाफ चेतावनी दी है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ



Source link