Mahila6o
ताज़ा खबर

थाने में पदस्थ पुलिस अधिकारियों को उभयलिंगियों के प्रति संंवेेदीकृत करने कंट्रोल रूम में आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला :


रायगढ़ । उभयलिंगी व्यक्ति के प्रति पुलिस अधिकारियों को संंवेेदीकृत करने के संबंध में आज दिनांक 06.10.2022 को पुलिस कंट्रोल रूम में पुलिस अधिकारियों का एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन रक्षा टीम द्वारा किया गया, जिसमें वक्ता के रूप में तृतीय लिंग कल्याण बोर्ड के सदस्य विद्या राजपूत, रवीना बरिहा, जिला महिला संरक्षण अधिकारी चैताली राय, सखी वन स्टॉप सेंटर काउंसलर किरण कश्यप उपस्थित थी । कार्यशाला में जिले के समस्त थाना, चौकियों से एक- एक पुलिस अधिकारियों को बुलाया गया था, जिस पर सभी रैंक के पुलिस अधिकारी उपस्थित हुए ।

कार्यशाला में वक्ताओं द्वारा जानकारी दिया गया कि वर्ष 2019 में ट्रांसजेंडर व्यक्ति (अधिकारों का संरक्षण) बिल 2019 लाया गया है। बिल लाने का उद्देश्य ट्रांसजेंडर व्यक्तियों से भेदभाव पर और कठोर प्रतिबंध लगाना है , बिल में बताया गया है कि ट्रांसजेंडर को निवास का, रोजगार का, शिक्षा का, स्वास्थ्य सेवा के अधिकार प्राप्त हैं । ऐसे में लिंग भेद पर ट्रांसजेंडर से किसी प्रकार का भेदभाव रखना तथा प्रताड़ित करने वालों की शिकायत पर वैधानिक कार्यवाही किया जावे । साथ ही कार्यशाला में चर्चा किया गया कि ट्रांसजेंडर से भीख मंगवाना, बलपूर्वक मजदूरी कराना, शारीरिक/यौन उत्पीड़न कराने की शिकायतें प्राप्त होती है जिस पर कार्य कार्यवाही के प्रावधान हैं । कार्यशाला में इस बात पर भी चर्चा हुई कि ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के विरुद्ध भी शिकायतें प्राप्त होती हैं, उन पर भी अपराध दर्ज के प्रावधान हैं । वक्ताओं द्वारा कहा गया कि छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ पुलिस में ट्रांसजेंडर्स की भर्ती लेकर उन्हें समाज में उचित स्थान दिया गया है । तृतीय लिंग कल्याण बोर्ड के सदस्य द्वारा छत्तीसगढ़ सरकार के प्रति कृतज्ञता जाहिर किए । कार्यशाला में थाना प्रभारी लैलूंगा प्रशिक्षु डीएसपी सौरभ उइके, थाना प्रभारी अजाक सहायक उपनिरीक्षक सरस्वती महापात्रे, रक्षा टीम प्रभारी सहायक उपनिरीक्षक मंजू मिश्रा सहित थाना, चौकियों के करीब 50 की संख्या में पुलिस अधिकारी उपस्थित थे।