छत्तीसगढ़

झूठे हैं ओवैसी, ट्रेन पर नहीं हुआ कोई पथराव, जांच के बाद गुजरात पुलिस का दावा



पुलिस ने कहा कि अंकलेश्वर और सूरत के बीच ट्रैक पर रेलवे का काम चल रहा है। जब वंदे भारत एक्सप्रेस दक्षिण की ओर बढ़ रही थी, उसी समय पश्चिम एक्सप्रेस उत्तर की ओर बढ़ रही थी, तभी कंपन के कारण एक पत्थर उछलकर उस कोच की खिड़की से टकरा गया, जिसमें ओवैसी बैठे थे।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

Engagement: 0

गुजरात चुनाव के लिए राज्य के दौरे पर पहुंचे एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की ट्रेन पर पथराव के पार्टी के दावे का गुजरात रेलवे पुलिस ने खंडन कर दिया है। रेल पुलिस ने कहा कि बगल की लाइन से दूसरी ट्रेन के गुजरने के कारण एक पत्थर उछलकर वंदे भारत एक्सप्रेस की खिड़की से जा लगा। इत्तेफाक से ओवैसी उससी बोगी में सफर कर रहे थे।

इससे पहले एआईएमआईएम के प्रवक्ता वारिस पठान ने सोमवार शाम आरोप लगाया कि जब पार्टी के नेता असदुद्दीन ओवैसी वंदे भारत ट्रेन में अहमदाबाद से सूरत की यात्रा कर रहे थे, तो उस कोच पर पथराव किया गया, जिसमें ओवैसी बैठे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि यह हमला एआईएमआईएम नेता को चोट पहुंचाने के लिए किया गया।

एआईएमआईएम द्वारा सार्वजनिक रूप से आरोप लगाने के तुरंत बाद गुजरात रेलवे पुलिस ने इसकी जांच शुरू की। पुलिस उपाधीक्षक डी.एच. गौर ने बताया कि अंकलेश्वर और सूरत के बीच ट्रैक पर रेलवे का काम चल रहा है। जब वंदे भारत एक्सप्रेस दक्षिण की ओर बढ़ रही थी, उसी समय पश्चिम एक्सप्रेस उत्तर की ओर बढ़ रही थी, तभी कंपन के कारण एक पत्थर उछलकर कोच की खिड़की से टकरा गया।

अधिकारी ने कहा कि घटनास्थल के आसपास कोई निवास भी नहीं है। इसलिए किसी भी गुंडागर्दी का संदेह नहीं है। जांच से पता चलता है कि न तो कोई घायल हुआ और न ही बदला लेने के इरादे से कोई साजिश रची गई। रेल विभाग के सूत्रों ने बताया कि पत्थर सीट संख्या ई1-25 के बगल की खिड़की पर लगा था, जबकि ओवैसी ई1-21 पर बैठे थे।




Source link