राष्ट्रीय

शिवसेना सांसद संजय राउत को राहत नहीं, कोर्ट ने 3 दिन के लिए ईडी की हिरासत में भेजा



प्रवर्तन निदेशालय ने मुंबई के कथित पात्रा चॉल घोटाला के मामले में रविवार को शिवसेना नेता संजय राउत के घर पर करीब 9 घंटे तलाशी ली थी। इसके बाद ईडी राउत को लेकर अपने कार्यालय चली गई थी, जहां देर रात उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

Engagement: 0

शिवसेना सांसद और पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ के संपादक संजय राउत को आज मुंबई की एक विशेष अदालत ने 4 अगस्त तक तीन दिन के लिए प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में भेज दिया। विशेष पीएमएलए कोर्ट के विशेष न्यायाधीश एमजी देशपांडे की कोर्ट ने यह आदेश सुनाया, जहां ईडी ने राउत को सोमवार सुबह गिरफ्तार करने के बाद पेश किया था।

कोर्ट में पेशी के दौरान ईडी के विशेष लोक अभियोजक हितेन वेनेगांवकर ने जहां आठ दिन की हिरासत मांगी, वहीं राउत के वकील अशोक मुंदरगी ने विभिन्न आधारों पर इसका विरोध किया। उन्होंने अपने मुवक्किल की स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में बताया। उनका कहना था कि संजय राउत हृदय रोगी हैं।

61 वर्षीय शिवसेना सांसद संजय राउत के घर पर 31 जुलाई को ईडी टीम ने छापेमारी की और करीब 9 घंटे से अधिक समय तलाशी के बाद संजय राउत को हिरासत में लेकर अपने कार्यालय चली गई। वहां पहले ईडी के अधिकारियों ने करीब 9 घंटे से अधिक समय तक संजय राउत से पूछताछ की और फिर देर रात उन्हें औपचारिक रूप से गिरफ्तार कर लिया।

इस बीच संजय राउत के खिलाफ ईडी की कार्रवाई को लेकर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का बयान आया है। उद्धव ने संजय राउत का समर्थन करते हुए कहा कि उन्हें उन पर गर्व है। उद्धव ने आज संजय राउत के परिवार से मुलाकात के बाद कहा कि वक्त हमेशा बदलता रहता है। जब हमारा वक्त आएगा तो सोचिए आपका क्या होगा। उन्होंने आगे कहा कि अब महाराष्ट्र की जनता फैसला करेगी। मुझे मरना मंजूर है, लेकिन मैं किसी की शरण में नहीं जाऊंगा। उन्होंने कहा कि संजय राउत झुकेगा नहीं।




Source link