राष्ट्रीय

नीतीश ने आरक्षण की सीमा 50 प्रतिशत से बढ़ाने की मांग की, सभी वर्ग की मदद के लिए जातीय गणना को बताया जरूरी



हालांकि, उन्होंने आगे कहा कि अब एक बार जाति आधारित जनगणना ठीक से हो जाए। 50 प्रतिशत आरक्षण का जो लिमिटेशन है उसमें अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति को हम लोग उनकी आबादी के हिसाब से आरक्षण देते हैं, लेकिन बाकी ओबीसी और ईबीसी को आबादी के हिसाब से आरक्षण नहीं मिल पाता है।

नीतीश कुमार ने कहा कि 10 प्रतिशत का जो आरक्षण दिया गया है बहुत अच्छा है, लेकिन जो 50 प्रतिशत का लिमिटेशन है इसको बढ़ना चाहिए, ये अच्छी बात होगी। उसके लिए जरूरी है कि पूरे देश के लोगों का आकलन होना चाहिए ताकि किसकी क्या आबादी है इसका पता चल सके और उसको देखते हुए मदद दी जाएगी।



Source link