अंतराष्ट्रीय

अमेरिका में मंकीपॉक्स बरपा रहा कहर! 24,000 मामलों की हुई पुष्टि



सीडीसी के आंकड़ों के मुताबिक, अमेरिकी राज्यों में अब तक सबसे अधिक 4,656 मामले कैलिफोर्निया में पुष्टि हुई है, इसके बाद न्यूयॉर्क में 3,755 और फ्लोरिडा में 2,398 मामले दर्ज किए गए हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

Engagement: 0

अमेरिका में मंकीपॉक्स कहर बरपा रहा है। अमेरिका में करीब 24,000 मंकीपॉक्स के मामलों की पुष्टि हुई है। यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के नवीनतम आंकड़ों में इन मामलों की पुष्टि की गई है। सोमवार को सीडीसी के आंकड़ों के मुताबिक, अमेरिकी राज्यों में अब तक सबसे अधिक 4,656 मामले कैलिफोर्निया में पुष्टि हुई है, इसके बाद न्यूयॉर्क में 3,755 और फ्लोरिडा में 2,398 मामले दर्ज किए गए हैं।

मंकी पॉक्स संक्रमण के क्या हैं लक्षण?

  • WHO के मुताबिक, मंकी पॉक्स संक्रमण का इनक्यूबेशन पीरियड (संक्रमण होने से लक्षणों की शुरुआत तक) आमतौर पर 6 से 13 दिनों का होता है, हालांकि कुछ लोगों में यह 5 से 21 दिनों तक भी हो सकता है।

  • संक्रमित व्यक्ति को बुखार, तेज सिरदर्द, लिम्फैडेनोपैथी (लिम्फ नोड्स की सूजन), पीठ और मांसपेशियों में दर्द के साथ गंभीर कमजोरी का अनुभव हो सकता है।

  • लिम्फ नोड्स की सूजन की समस्या को सबसे आम लक्षण माना जाता है। इसके अलावा रोगी के चेहरे और हाथ-पांव पर बड़े आकार के दाने हो सकते हैं। कुछ गंभीर संक्रमितों में यह दाने आंखों के कॉर्निया को भी प्रभावित कर सकते हैं।

  • स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक, मंकीपॉक्स से मौत के मामले 11 फीसदी तक हो सकते हैं। संक्रमण के छोटे बच्चों में मौत का खतरा अधिक रहता है।

मंकी पॉक्स से बचने के उपाय:

  • मंकीपॉक्स का लक्षण दिखते ही डॉक्टर से संपर्क करें।

  • मंकीपॉक्स के लक्षण जैसे स्कीन में रैशेज हो तो, दूसरों के संपर्क में आने से बचना चाहिए।

  • जिस व्यक्ति में मंकीपॉक्स के लक्षण दिख रहे हैं, उनकी चादर, तौलिया या कपड़ों जैसी पर्सनल चीजों का इंस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

  • बार-बार अपने हाथों को साबुन या फिर सैनिटाइजर से साफ करते रहें।

  • मंकीपॉक्स के लक्षण दिखते ही घर के एक कमरे में अकेले रहें।

  • अपने पालतू जानवरों से भी दूरी बनाकर रखें।

मंकीपॉक्स संक्रमण के क्या कारण हैं?

  • स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक, मंकी पॉक्स नामक वायरस के कारण यह संक्रमण होता है। यह वायरस ऑर्थोपॉक्सवायरस समूह से संबंधित है। इस समूह के अन्य सदस्य मनुष्यों में चेचक और काउपॉक्स जैसे संक्रमण का कारण बनते हैं।

  • डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, मंकी पॉक्स के एक से दूसरे व्यक्ति में संक्रमण के मामले बहुत ही कम हैं। संक्रमित व्यक्ति के छींकने-खांसने से निकलने वाली ड्रॉपलेट्स, संक्रमित व्यक्ति की त्वचा के घावों या संक्रमित के निकट संपर्क में आने के कारण दूसरे लोगों में भी संक्रमण होने की आशंका रहती है।




Source link