छत्तीसगढ़

दिल्ली सरकार के अधीन राजधानी के 12 कॉलेजों के सामने पैसे का संकट, हर महीने काटा जा रहा प्रोफेसरों का वेतन



उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा, “अब केजरीवाल का असली चेहरा सामने आ चुका है। आम आदमी पार्टी से जुड़े राजनीतिक कार्यकर्ताओं को कॉलेजों की प्रशासन समितियों में नियुक्त किया जा रहा है…पूरी अव्यवस्था के लिए कॉलेजों का राजनीतिकरण जिम्मेदार है…” उन्होंने एक न्यूज एजेंसी से बातचीत में कहा, “हम चाहते हैं कि केंद्र सरकार इन कॉलेजों को अपने अधीन ले ले ताकि समस्या का समाधान हो सके।”

डूटा अध्यक्ष ने कहा, “हद तो यह है कि मेडिकल बिल तक का भुगतान नहीं हो रहा है, भत्तों की समस्या अलग से है। और सिर्फ टीचर्स को ही नहीं, बल्कि छात्रों को भी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि न तो रखरखाव और न कोई व्यवस्था। कई बार पानी की समस्या होती है, कभी बिजली की क्योंकि बिल समय से नहीं चुकाए गए हैं।”



Source link