छत्तीसगढ़

मोहाली MMS कांडः आरोपी ने दूसरी लड़की का भी वीडियो बनाया था, वकील के खुलासे से पुलिस के दावे पर उठे सवाल



चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी की छात्राओं के आपत्तिजनक वीडियो लीक करने के तीनों आरोपियों- एमबीए छात्रा, उसके बॉयफ्रेंड सनी मेहता और उसके दोस्त रंकज वर्मा को सोमवार को खरड़ कोर्ट में पेश किया गया, जहां से कोर्ट ने तीनों आरोपियों को 7 दिन के पुलिस रिमांड में भेज दिया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

Engagement: 0

पंजाब के मोहाली स्थित चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के एमएमएस कांड के तीनों आरोपियों को आज कोर्ट ने सात दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया है। पेशी के दौरान कोर्ट में आरोपियों के वकील ने चौंकाने वाला खुलासा करते हुए कहा कि आरोपी छात्रा ने एक दूसरी लड़की का भी वीडियो बनाया था लेकिन उसमें लड़की की पहचान उजागर नहीं हो रही है। वकील के इस दावे से पंजाब पुलिस के उस दावे पर सवाल खड़े हो गए हैं, जिसमें कहा गया था कि आरोपी ने किसी और का वीडियो नहीं बनाया था।

पुलिस ने मांगा 10 दिन का रिमांड

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी की छात्राओं के आपत्तिजनक वीडियो लीक करने के तीनों आरोपियों एमबीए की छात्रा, उसके बॉयफ्रेंड सनी मेहता और उसके दोस्त रंकज वर्मा को सोमवार को खरड़ अदालत में पेश किया गया। पेशी के दौरान पुलिस ने जज के सामने आरोपियों के मोबाइल फोन रखे और एक फोटो भी दिखाई। पुलिस ने तीनों आरोपियों का 10 दिन का रिमांड मांगा था लेकिन कोर्ट ने 7 दिन की रिमांड मंजूर की। पुलिस अब मामले में आरोपियों से और जानकारी निकलवाने की कोशिश करेगी। इस बीच यूनिवर्सिटी ने मामले में आंतरिक जांच कमेटी गठित की है, जिसमें 9 सदस्य हैं।

आरोपियों के वकील का चौंकाने वाला खुलासा

इस बीच कोर्ट में आरोपियों के वकील संदीप शर्मा के खुलासे ने मामले को नया मोड़ दे दिया है। वकील ने यह कहकर सबको चौंका दिया कि आरोपी छात्रा ने दूसरी लड़की का भी वीडियो बनाया था लेकिन उसमें उसकी पहचान उजागर नहीं हो रही है, जबकि पुलिस अब तक इससे इनकार करती रही है। घटना के बाद से जहां यूनिवर्सिटी की 60 लड़कियों के आपत्तिजनक वीडियो इंटरनेट पर लीक होने के आरोप लग रहे हैं, वहीं पुलिस इससे इनकार कर रही है। पुलिस का कहना है कि लड़की ने सिर्फ अपने वीडियो बनाकर शेयर किए थे।

वकील के दावे पर पुलिस चुप

आरोपियों के वकील के इस खुलासे से मामले में नया विवाद खड़ा हो गया है। हालांकि, फिलहाल पुलिस ने इस पर कोई टिप्पणी नहीं की है। पुलिस की तरफ से छात्र-छात्राओं को भरोसा दिलाया गया है कि अगर मोबाइल से कोई वीडियो डिलीट हुआ है तो उसे रिट्रीव किया जाएगा। पुलिस रिमांड के दौरान यह पता लगाने की कोशिश करेगी कि मामले की मुख्य आरोपी छात्रा ने आखिर कितने वीडियो बनाए और किस-किस को भेजे।

वहीं इस मामले की जांच के लिए पंजाब सरकार ने एसआईटी का भी गठन किया है। आरोपियों से जब्त उनके तीनों मोबाइल फोन की भी फॉरेंसिक जांच होगी। उधर मामले की जांच के लिए यूनिवर्सिटी ने भी आंतरिक जांच कमेटी गठित की है, जिसमें यूनिवर्सिटी की वीमेन सेल की हेड के साथ 9 सदस्य हैं। इस कमेटी में 3 छात्र प्रतिनिधि और 6 प्रोफेसर रखे गए हैं। यह कमेटी पूरे घटनाक्रम की जांच करेगी और रिपोर्ट तैयार कर प्रबंधन को सौंपेगी।

आरोपी के दोस्त के पास भी मिला आरोपी छात्रा का आपत्तिजनक वीडियो

उधर अब तक की जांच में पता चला है कि मामले की मुख्य आरोपी का बॉयफ्रेंड सनी मेहता शिमला में एक बेकरी चलाता है, जबकि उसका दोस्त रंकज वर्मा शिमला में ही एक ट्रेवल एजेंसी में काम करता है। तीनों आपस में दोस्त हैं। जानकारी के अनुसार आरोपी छात्रा का आपत्तिजनक वीडियो रंकज वर्मा के मोबाइल फोन से बरामद होने पर पुलिस हैरान है क्योंकि आरोपी छात्रा ने अपने वीडियो सिर्फ बॉयफ्रेंड के साथ साझा किए थे। पुलिस इस पहलू की भी जांच करेगी।




Source link