ताज़ा खबर

विधायक विकास उपाध्याय के गुमशुदा व्यक्तियों को ढूंढने की मुहिम रंग ला रही है ,सोशल मीडिया के माध्यम को इस मुहिम के लिए और भी हाईटेक किया जाएगा – विकास उपाध्याय


Vikas

रायपुर। राजनीति से हटकर सामाजिक सेवा में भी लगातार सक्रिय विधायक विकास उपाध्याय की वह मुहिम जिसमें क्षेत्र के गुमशुदा लोगों को सोशल मीडिया के माध्यम से ढूंढने का सिलसिला भी लगातार जारी है। उनके इस पहल की पूरे राजधानी में जबरदस्त प्रशंसा हो रही है। अभी तक ऐसे एक दर्जन से भी ज्यादा लोग किसी वजह से जो अपने परिवार से बिछड़ गए थे, विधायक विकास उपाध्याय की टीम ने ढूंढ निकाला है। उन्होंने इस सामाजिक कार्य में मिल रहे अभूतपूर्व सफलता के बाद इस मुहिम को और भी हाईटेक करने का निर्णय लिया है।

विधायक विकास उपाध्याय इस मुहिम के तहत् गुमशुदा व्यक्तियों के परिजनों द्वारा बताई गई जानकारी के आधार पर सोशल मीडिया के माध्यम से उन्हें ढूंढ निकालने की मुहिम चला रहे हैं। विगत् दिनों उन्होंने ऐसा ही एक गुमशुदा व्यक्ति विजयकेशव राव देशमुख के संबंध में एक पोस्ट डाला था, जिसके दो दिन बाद किसी व्यक्ति ने उन्हें कुम्हारी के समीप देख, पहचान लिया और विधायक विकास उपाध्याय का जिक्र करते हुए देशमुख से पूछा कि वे कहाँ जा रहे हैं, जबकि उनके घर वालों को इस बात की खबर नहीं थी कि वे कहाँ हैं। तब देशमुख ने संबंधित व्यक्ति को बताया कि वे डोंगरगढ़ जा रहे हैं और इस बात की जानकारी उस शख्स ने विधायक को बताई और इसके तत्काल बाद विकास उपाध्याय ने बगैर विलंब किये देशमुख के पुत्र को इस बात की जानकारी दी। इस सूचना के बाद देशमुख का पुत्र डोंगरगढ़ रवाना हो गया और वहाँ से घर लेकर आ गया। तभी विधायक विकास उपाध्याय ने उनके पुत्र से निवेदन किया था कि वे जब घर पहुँचे तो परिवार के साथ उन्हें एक सेल्फी जरूर भेजें ताकि उन्हें तसल्ली हो सके।

विकास उपाध्याय की यह मुहिम कल तब रंग लाई जब विजयकेशव राव देशमुख जो कि हर्षित रॉयल रिजेंसी हीरापुर में रहते हैं, अपने घर डोंगरगढ़ से अपने पुत्र के साथ सकुशल पहुँचने के पश्चात् विधायक विकास उपाध्याय को सेल्फी के साथ तस्वीर भेजी। ज्ञातव्य हो कि देशमुख 27 मार्च से गुमशुदा थे और उनका पता कोई ठीक-ठाक लग नहीं रहा था, परन्तु उनके घर पहुँचने पर परिवार के बीच खुशी का माहौल है। इसके लिए देशमुख परिवार ने विधायक विकास उपाध्याय का धन्यवाद ज्ञापित किया है।