ताज़ा खबर

सभी गोठानों में संचालित की जाए आजीविका गतिविधियां-कलेक्टर भीम सिंह


रायगढ़,  कलेक्टर भीम सिंह ने आज कलेक्टे्रट सभाकक्ष में जिले में गोठान संचालन की गहन समीक्षा की। उन्होंने विकासखण्डवार गोठानों में उपलब्ध सुविधाएं तथा गोबर खरीदी, वर्मी कम्पोस्ट निर्माण व विक्रय की समीक्षा की।

Bhim A1

उन्होंने कहा कि जिले में संचालित सभी गोठानों में आजीविका गतिविधियों का संचालन नियमित रूप से होना चाहिए। ग्रामीण औद्योगिक पार्क (रीपा)के लिए चिन्हित गौठानों में गतिविधियों की संख्या बढ़ायी जाए। उन्होंने गोठानों में बिजली, पानी के साथ व्यवस्थित निर्माण कार्य की पूर्णता पर जोर दिया। इस दौरान जिला पंचायत सीईओ डॉ.रवि मित्तल भी उपस्थित रहे।

Bhim A2
कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि जिले में सभी गोठानों में न्यूनतम तीन आजीविका गतिविधियों का संचालन किया जाए। प्रथम चक्र में ग्रामीण औद्योगिक पार्क के लिए चयनित ५५ गोठानों के लिए रीपा के तहत पांच-पांच गतिविधियों का संचालन होना है। जिनमें तेल पेराई, साबुन निर्माण, पोहा, मिनी राइस मिल जैसे कम से कम दो प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि कार्यो में स्थानीय लोगों की पसंद को प्राथमिकता दी जाए जिससे स्थानीय संसाधनों का बेहतर उपयोग हो सके। कलेक्टर श्री सिंह ने सभी एसडीएम को निर्देशित करते हुए कहा कि उनके क्षेत्र अंतर्गत गोठानों का निरीक्षण करें तथा वहां की आवश्यकताओं की जानकारी गौठानवार तैयार करवायें जिसकी समीक्षा कर गौठानों में यदि कोई समस्या है तो उसका निराकरण किया जा सकें। उन्होंने कहा कि सभी गौठानों में बिजली, पानी की सुविधा के साथ निर्माण कार्य भी पूर्ण होना चाहिए। जिससे सभी प्रकार की गतिविधियों को बेहतर ढग़ से संचालित किया जा सके। इस दौरान कलेक्टर श्री ङ्क्षसह ने गोठानों संचालित गतिविधियों एवं आधारभूत आवश्यकताओं पर विस्तारपूर्वक समीक्षा की। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि गोठानों में पशुओं की उपस्थिति को बढ़ाया जाए। इसके लिए संबंधित अधिकारी चरवाहा, पशुपालक, सचिव एवं पशुपालन विभाग सभी संयुक्त रूप से बैठक के माध्यम से चर्चा कर गोठानों में पशुओं की संख्या बढ़ाने की दिशा में कार्य किया जाए। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि जिन गोठानों में विद्युतीकरण नहीं हुआ है, उनको जल्द विद्युतीकरण किया जाए। उन्होंने गोठानो में किए जा रहे निर्माण कार्यो की समीक्षा किए तथा अतिआवश्यक मूलभूत निर्माण कार्यो को शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिए। कलेक्टर श्री सिंह ने पशुपालन विभाग को निर्देशित किया कि गोठानों में भूमि चयन कर चारागाह विकसित किया जाए। उन्होंने ब्लाकवार गोठानों में जल उपलब्धता की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि जहां संभव हो सके बोर करवाया जाए तथा भूजल स्तर की समस्या है वहां जल की वैकल्पिक व्यवस्था किया जाए। इस दौरान उन्होंने गोबर व वर्मी खरीदी ब्रिकी की समीक्षा करते हुए कहा कि जिले के सभी गोठानों में नियमित रूप से गोबर खरीदी होनी चाहिए। इसके साथ ही निर्मित खाद का सोसाइटियों में भण्डारण करें। उन्होंने एसडीएम एवं जनपद सीईओ को गोठानों के निरीक्षण करने के साथ कन्वर्जन रेशियों को बढ़ाने की दिशा में कार्य करने के लिए निर्देशित किया। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि जिन गोठानों में महिला समूह सक्रिय नहीं है तत्काल हटा कर अन्य समूह को कार्य में लगाकर प्रशिक्षित किया जाए। जिससे कार्य करने के इच्छुक महिला समूह को रोजगार मिलने के साथ ही गोठानों की सक्रियता बनी रहे। बैठक में सभी एसडीएम, जनपद सीईओ एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।