वारदात

खतौली उपचुनावः बीजेपी के सामने गढ़ बचाने की चुनौती, SP-RLD के पास अवसर भुनाने का मौका



एसपी-आरएलडी ने किसानों के मुद्दों पर बीजेपी को घेरा

राजनीतिक विश्लेषक अमोदकांत कहते हैं कि खतौली विधानसभा में बीजेपी और आरएलडी की आमने सामने की टक्कर है। बीजेपी इस सीट को जीतकर संदेश देना चाहती है कि उसका पश्चिम में कोई विरोध नहीं है। 2024 में वह मजबूत स्थित में लड़ेगी। इसी कारण बीजेपी ने यहां अपनी पूरी फौज उतार रखी है। उधर एसपी-आरएलडी यह सीट जीतने के पूरे प्रयास में है। इसी कारण से उसने पूरी ताकत झोंक रखी है। बार बार किसानों के मुद्दों को उठा रहे हैं।

हालांकि किसान आंदोलन के बावजूद भी एसपी और आरएलडी को 2022 के चुनाव में कोई खास सफलता नहीं मिली थी। उन्होंने कहा कि गठबंधन और बीजेपी के लिए 2024 का रिहर्सल माना जा रहा है। राजनीति आंकड़ों पर नजर डालें तो इस सीट पर मुस्लिम करीब 80 हजार, दलित 50 हजार, जाट 25 हजार, 45 हजार सैनी, गुर्जर 30 हजार, त्यागी करीब 14 हजार हैं।



Source link