छत्तीसगढ़

केरलः पूर्व स्वास्थ्य मंत्री शैलजा ने ठुकराया मैग्सेसे पुरस्कार, CPM ने नहीं दी अनुमति



सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि मैग्सेसे पुरस्कार को स्वीकार नहीं करने का निर्णय पार्टी का था। उन्होंने कहा कि निपाह और कोविड को रोकने के लिए केरल में जो किया गया वह स्वास्थ्य विभाग और सरकार का एक संयुक्त प्रयास था और किसी एक व्यक्ति का नहीं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

Engagement: 0

केरल की पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और मट्टनूर विधानसभा क्षेत्र से सीपीएम विधायक के.के. शैलजा ने रेमन मैग्सेसे पुरस्कार स्वीकार करने के लिए अपनी सहमति देने से इनकार कर दिया है। शैलजा ने यह फैसला सीपीएम की केंद्रीय समिति से इसकी इजाजत नहीं मिलने पर लिया। उन्होंने कहा कि उन्होंने पार्टी के फैसले के अनुसार यह पुरस्कार नहीं लेने का फैसला किया है।

रविवार को सीपीएम केरल मुख्यालय के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए शैलजा ने कहा कि रेमन मैग्सेसे अवार्ड फाउंडेशन ने निपाह और कोविड बीमारियों से बचाव के लिए स्वास्थ्य मंत्री के रूप में उनके द्वारा किए गए कार्यो को मान्यता देने के लिए पुरस्कार की घोषणा करने की अनुमति मांगी थी।

शैलजा ने बताया कि उन्होंने पार्टी के साथ इस पर चर्चा की क्योंकि वह सीपीएम की केंद्रीय समिति की सदस्य हैं और एक संयुक्त निर्णय लिया गया कि पुरस्कार को स्वीकार करने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि घातक निपाह वायरस और कोविड -19 के खिलाफ लड़ाई एक संयुक्त प्रयास था न कि किसी व्यक्ति का काम। उन्होंने यह भी कहा कि पुरस्कार को रेमन मैग्सेसे के नाम पर संस्थागत रूप दिया गया है जिन्होंने फिलीपींस में कम्युनिस्ट नेताओं के खिलाफ बल प्रयोग किया था।

इस मामले पर बोलते हुए सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने नई दिल्ली में कहा कि मैग्सेसे पुरस्कार को स्वीकार नहीं करने का निर्णय पार्टी का था। यह पूछे जाने पर कि क्या पार्टी ने शैलजा को अवसर देने से इनकार किया है, येचुरी ने कहा, “वह खुद पार्टी समिति की सदस्य हैं जो सीपीएम की सर्वोच्च निर्णय लेने वाली संस्था है।”

येचुरी ने यह भी कहा कि निपाह और कोविड को रोकने के लिए केरल में जो किया गया वह स्वास्थ्य विभाग और सरकार का एक संयुक्त प्रयास था और किसी व्यक्ति को इसके लिए मैग्सेसे पुरस्कार नहीं दिया जा सकता है। येचुरी ने कहा कि यह पहली बार था जब किसी राजनीतिक नेता को पुरस्कार के लिए चुना गया था और आम तौर पर इसके लिए एक्टिविस्ट पर विचार किया जाता है, यह पुरस्कार अस्वीकार करने का एक और कारण था।




Source link