पैसा बनाओ

Investment Tips: महंगाई को मात देने के लिए इक्विटी, बॉन्‍ड या म्‍यूचुअल फंड में से कहां करें निवेश? किसमें मिलेगा ज्‍यादा रिटर्न



हाइलाइट्स

तेजी से बढ़ती महंगाई धीरे-धीरे लोगों की दौलत को कम करती जाती है.
महंगाई के मुकाबले ज्‍यादा रिटर्न देने वाले विकल्‍प में निवेश फायदेमंद है.
लॉन्‍ग टर्म में ज्‍यादा रिटर्न लेने के लिए कई निवेश विकल्‍प उपलब्‍ध हैं.

नई दिल्‍ली. महंगाई लगातार बढ़ती रहती है. ऐसे में हर कोई चाहता है कि वह ऐसी जगह निवेश करें, जहां उसे महंगाई के मुकाबले ज्‍यादा रिटर्न मिले, ताकि उसकी पूंजी पर मुद्रास्‍फीति का असर कम हो. वित्‍तीय सलाहकारों का कहना है कि लंबी अवधि के दौरान इक्विटी में निवेश करके आप महंगाई को मात दे सकते हैं. वहीं, कुछ का कहना है कि लंबी अवधि में म्‍यूचुअल फंड शानदार रिटर्न भी देते हैं और जोखिम की दर भी कम ही रहती है. ऐसे में निवेशकों के सामने दोनों में से बेहतर विकल्‍प चुनने की चुनौती खड़ी हो जाती है. आइए, हम विशेषज्ञों की राय के जरिये आपकी कुछ मदद करने की कोशिश करते हैं.

शेयर इंडिया के उपाध्यक्ष और रिसर्च हेड रवि सिंह का कहना है कि मुद्रास्फीति अब भी अनिश्चितता का विषय बनी हुई है. इससे बचने का सबसे अच्‍छा तरीका है कि कमोडिटी और एफएमसीजी, बिजली व ऊर्जा जैसे क्षेत्रों के स्‍टॉक्‍स में निवेश किया जाए. जब कीमतें बढ़ती हैं तो इन क्षेत्रों में मजबूती आती है. इससे निवेशक को फायदा होता है.

ये भी पढ़ें- GST : क्‍यों रोटी पर 5% तो परांठे पर देना होगा 18% जीएसटी? 20 महीने की लड़ाई के बाद तय हुआ टैक्‍स

इक्विटी इनवेस्‍टमेंट सबसे बेहतर
लाइव मिंट की एक रिपोर्ट के अनुसार, वेल्थ मैनेजमेंट फर्म ट्रू बीकन के चीफ इनवेस्टमेंट ऑफिसर रोहित बेरी का कहना है कि कंपाउंडिंग निवेश का सबसे अच्‍छा दोस्‍त है. दूसरा, अगर आपने टैक्‍स बचा लिया तो समझ लीजिए कि आपने पैसे कमा लिए. बेरी का कहना है, “निवेशक को अपनी बचत का केवल एक दीर्घकालिक हिस्सा इक्विटी जैसे अस्थिर एसेट क्‍लास में इनवेस्‍ट करना चाहिए. इसी तरह इमरजेंसी फंड को ऐसी जगह लगाना चाहिए, जहां जरूरत पड़ने पर उस पैसे को आसानी से निकाला जा सके और कोई आर्थिक नुकसान भी न हो. बाजार की अस्थिरता से घबराएं नहीं. बाजार गिरने के बाद अगर आपने अपनी पूंजी निकाल ली तो आपको बहुत नुकसान होगा.”

ये भी पढ़ें-  Multibagger Stock: ये ऑटो शेयर दौड़ा नहीं, उड़ा है…बीस साल में 44 हजार के बना दिए एक करोड़!

बेरी का कहना है कि अगर आप अपने पैसे को घर में रखेंगे तो वह समय के साथ कम होता जाएगा. इसी तरह लॉन्‍ग टर्म के लिए बॉन्‍ड में पैसे लगाना भी समझदारी नहीं है. 5 साल की अवधि में इक्विटी महंगाई से ज्‍यादा रिटर्न देती है, लेकिन बॉन्‍ड ऐसा करने में असफल रहते हैं.

म्‍यूचुअल फंड में लगाएं पैसा
रवि सिंह का कहना है कि म्यूचुअल फंड्स निवेश का अच्छा विकल्प हैं. यह कई कंपनियों या क्षेत्रों में निवेश करके निवेशक के पोर्टफोलियो में विविधता लाता है. विविधीकरण ही पोर्टफोलियो जोखिम को कम करने और मुनाफा बढ़ाने का सबसे अच्‍छा तरीका है. इस काम को म्‍यूचुअल फंड में निवेश करके आसानी से किया जा सकता है. म्‍यूचुअल फंड में निवेश से निवेशक को बहुत कम खर्च पर पोर्टफोलियो मैनेजर्स की सेवाएं और बहुत से स्‍टॉक्‍स मिल जाते हैं.

बैलेंस्ड एडवांटेज फंड (BAF) में निवेश
अपसाइड एआई की सह-संस्थापक कनिका अग्रवाल के अनुसार, बैलेंस्ड एडवांटेज फंड (BAF) गिरते बाजार में जोखिम को कम करते हुए निवेशक को इक्विटी एक्‍सपोजर देता है. निवेश के लिए यह अच्‍छा विकल्‍प तो है, लेकिन मुनाफा इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस फंड का चयन करते हैं. कई बार ऐसा भी हुआ है कि बीएएफ जोखिमों से सुरक्षा प्रदान करने में असफल रहे हैं.

Tags: Business news in hindi, Equity scheme, Investment tips, Money Making Tips, Mutual fund



Source link