राष्ट्रीय

भारत जोड़ो यात्राः राहुल गांधी ने चारमीनार में फहराया तिरंगा, हैदराबाद में स्वागत के लिए उमड़ा जनसैलाब



हैदराबाद में प्रवेश के बाद यात्रा बहादुरपुरा में रुकी, जहां राहुल गांधी ने महिलाओं, ट्रांसजेंडरों के प्रतिनिधियों और समाजिक संगठनों सहित विभिन्न समूहों से मुलाकात की। इसके बाद यात्रा फिर शुरू हुई और पूरनपुल, हुसैनी आलम और खिलवत से होते हुए चारमीनार पहुंची।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

Engagement: 0

कांग्रेस नेता राहुल गांधी के नेतृत्व में जारी भारत जोड़ो यात्रा ने मंगलवार को हैदराबाद में प्रवेश किया, जहां हजारों लोगों की भीड़ ने यात्रा का जोरदार स्वागत किया। यात्रा के दौरान शहर से होते हुए राहुल गांधी ऐतिहासिक स्मारक और हैदराबाद के प्रतीक चारमीनार पहुंचे और वहां राष्ट्रीय ध्वज फहराया।

इससे पहले पार्टी नेताओं और सैकड़ों कार्यकर्ताओं और समर्थकों के साथ राहुल गांधी ने अपने दिवंगत पिता और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को श्रद्धांजलि दी और उसके बाद राष्ट्रीय ध्वज फहराया। हैदराबाद और सिकंदराबाद के जुड़वां शहरों में सांप्रदायिक शांति और सद्भाव के लिए 19 अक्टूबर, 1990 को राजीव गांधी द्वारा शुरू की गई चारमीनार की सद्भावना यात्रा की स्मृति में यह कार्यक्रम आयोजित किया गया था।

कांग्रेस हर साल चारमीनार में सद्भावना यात्रा स्मृति दिवस आयोजित करती है और शांति और सांप्रदायिक सद्भाव के लिए काम करने वाली हस्तियों को पुरस्कार प्रदान करती है। राहुल गांधी जैसे ही लाड बाजार रोड से स्मारक पर पहुंचे, वह कुछ क्षण रुककर भवन का नजारा देखने लगे और आगे बढ़ने से पहले इसकी सुंदरता को अपने कैमरे में कैद किया।

जब राहुल गांधी अपने दिवंगत पिता के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर रहे थे, तब सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता पार्टी नेता के स्वागत के लिए चारमीनार के आसपास एकत्र हुए और ‘जोड़ो जोड़ो, भारत जोड़ो’ और ‘राजीव गांधी अमर रहे’ के नारे लगा रहे थे। इस दौरान तेलंगाना इकाई के कांग्रेस अध्यक्ष ए. रेवंत रेड्डी, वरिष्ठ नेता वी. हनुमंत राव, अंजन कुमार यादव और अन्य नेता मौजूद रहे।

चारमीनार में कार्यक्रम के बाद भारत जोड़ो यात्रा ऐतिहासिक पाथरगट्टी बाजार की और बढ़ गई, जहां स्वागत के लिए सड़क के दोनो तरफ खड़े लोगों का राुहल गांधी ने हाथ हिलाकर अभिवादन किया। कुछ व्यस्त क्षेत्रों से गुजरने के बाद भारत जोड़ो यात्रा हुसैन सागर झील के किनारे नेकलेस रोड पर पहुंची, जो हैदराबाद और सिकंदराबाद के जुड़वां शहरों को विभाजित करती है।

यहां कांग्रेस सांसद नेकलेस रोड पर अपनी दादी और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगे और एक बैठक को संबोधित करेंगे। कांग्रेस नेता और तेलंगाना के प्रभारी मनिकम टैगोर ने कहा कि राहुल गांधी पूर्व प्रधानमंत्री पी.वी. नरसिम्हा राव को भी श्रद्धांजलि देंगे, जिनकी समाधि नेकलेस रोड पर स्थित है।

इससे पहले यात्रा मंगलवार सुबह हैदराबाद में दाखिल हुई। नारायणपेट, महबूबनगर और रंगारेड्डी जिलों को कवर करने के बाद, यात्रा तेलंगाना में अपनी यात्रा के सातवें दिन राज्य की राजधानी पहुंची। कांग्रेस सांसद, पार्टी के अन्य नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ शहर के बाहरी इलाके शमशाबाद में स्थित मठ मंदिर से वॉकथॉन फिर से शुरू हुआ और बेंगलुरु-हैदराबाद राजमार्ग के माध्यम से शहर में प्रवेश किया।

इस बीच यात्रा बहादुरपुरा में थोड़ी देर के लिए रुकी, जहां राहुल गांधी ने महिलाओं, ट्रांसजेंडरों के प्रतिनिधियों और नागरिक समाज संगठनों सहित विभिन्न समूहों से मुलाकात की। जिसके बाद यात्रा शाम चार बजे फिर शुरू हुई और पूरनपुल, हुसैनी आलम और खिलवत सड़कों से होते हुए चारमीनार पहुंची।

राहुल गांधी की यात्रा को लेकर पुलिस ने सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं। उन्होंने यात्रा मार्ग पर यातायात की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया है। राहुल गांधी का रात्रि विश्राम सिकंदराबाद के बोवेनपल्ली में गांधी विचारधारा केंद्र में होगा। यह यात्रा तेलंगाना में सात नवंबर तक चलेगी और चार नवंबर को एक दिन का ब्रेक होगा। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा राज्य के 19 विधानसभा और 7 संसदीय क्षेत्रों में कुल 375 किमी की दूरी तय करेगी।




Source link