छत्तीसगढ़

वोडाफोन आइडिया के 2 करोड़ पोस्टपेड ग्राहकों के डेटा लीक में आपका नंबर तो नहीं? कंपनी ने दिया जवाब



एक साइबर-सुरक्षा अनुसंधान फर्म ने दावा किया है कि वोडाफोन आइडिया (वीआई) के लगभग 2 करोड़ ग्राहकों के कॉल डेटा रिकॉर्ड साइबर अपराधियों ने एक्सेस किए, हालांकि दूरसंचार ऑपरेटर ने इससे इनकार किया है। साइबर-सिक्योरिटी रिसर्च फर्म साइबरएक्स9 ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि कंपनी के सिस्टम में कमजोरियों के कारण 2.6 करोड़ पोस्टपेड वीआई ग्राहकों के कॉल डेटा रिकॉर्ड लीक हो गए।

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि लीक हुए डेटा में कॉल का समय, कॉल की अवधि, जहां से कॉल की गई, ग्राहक का पूरा नाम, पता एसएमएस विवरण और रोमिंग विवरण शामिल हैं। हालांकि, वोडाफोन-इंडिया ने इस दावे का खंडन करते हुए कहा कि कोई डेटा लीक नहीं हुआ है और रिपोर्ट ‘झूठी और दुर्भावनापूर्ण’ है।

कंपनी ने कहा कि उसने ‘अपने बिलिंग संचार में संभावित लीक’ के बारे में जानने के बाद इसे ‘तुरंत ठीक किया’ और ‘कोई डेटा उल्लंघन नहीं हुआ’। यह पता लगाने के लिए एक संपूर्ण फोरेंसिक विश्लेषण किया गया। वोडाफोन आइडिया ने कहा कि वह ‘नियमित जांच’ करती है और सुरक्षा बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए ऑडिट किए जाते हैं।

हालांकि, साइबरएक्स9 ने कहा कि कंपनी का यह दावा कि उन्होंने फोरेंसिक ऑडिट किया है, बेतुका है। साइबरएक्स9 के मुताबिक, वीआई के लाखों ग्राहकों के कॉल लॉग्स और अन्य डेटा पिछले दो सालों से लीक हुए हैं, जिन्हें हैकर्स ने एक्सेस कर लिया था।

आईएएनएस के इनपुट के साथ



Source link