छत्तीसगढ़

बिलकिस बानो केस: दोषियों की सजा माफ करने के मामले में 6000 लोगों की SC से अपील, हतोत्साहित करने वाला ये फैसला हो रद्द



बयान में कहा गया है कि, 15 अगस्त 2022 की सुबह , 75वें स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए भारत के प्रधानमंत्री ने महिला अधिकार, गौरव और नारी-शक्ति के बारे में बात की। उसी दिन दोपहर में ‘बिलकिस बानो’, एक महिला जो उसी ‘नारी – शक्ति ’ की मिसाल के रुप में पिछले 17 साल से न्याय की लम्बी लड़ाई लड़ रही है, को पता चलता है कि वे लोग जिन्होंने उसके परिवार के लोगों को मार डाला, उसकी 3 साल की मासमू बच्ची का कत्ल किया, उसके साथ सामहिूक बलात्कार किया और फिर उसे मरने के लिए छोड़ दिया, वो सभी जेल से बाहर आ गए हैं और आज़ाद हो गए हैं। किसी ने उससे उसके विचार नहीं पूछा या उसकी सुरक्षा के बारे में जानने की कोशिश नहीं की। किसी ने उसे नोटिस भी नहीं भेजा, किसी ने नहीं पूछा कि एक सामहिूक बलात्कार की पीड़ा से निकली महिला को अपने बलात्कारियों की रिहाई के बारे में सुनकर कैसा महसूस हुआ।

इसे भी पढ़ें: बिलकीस बानो केस में विपक्ष के निशाने पर मोदी सरकार, बीजेपी-आप ने ओढ़ी रहस्यमयी खामोशी

बिलकिस ने हमेशा कहा है कि न्याय के लिए उसकी लड़ाई केवल उसकी अकेले की लड़ाई नहीं है बल्कि सभी महिलाओं की लड़ाई है जो न्याय के लिए लड़ रही हैं, और इसलिए 15 अगस्त को भारत में हर एक संघर्षील बलात्कार पीड़िता को एक बड़ा झटका लगा है। यह हमारे लिए बहुत ही शर्म के बात है कि जिस दिन हम भारतवासियों को अपनी आज़ादी की ख़ुशी मनानी चाहिए और अपनी स्वतंत्रता पर नाज़ करना चाहिए, उसी दिन भारत की महिला अपने साथ हुए सामूहिक बलात्कार और हत्या करने वाले दोषियों को देश के काननू द्वारा बरी कर दिए जाने की साक्षी बनी। काननू द्वारा उन सभी 11 सामहिूक बलात्कार के दोषियों को छोड़ देने का आदेश उन सभी बलात्कार सेपीड़ित महिलाओं को सन्न कर देने वाला होगा जिन्हें यह कहा जाता है कि “देश की न्याय व्यवस्था पर भरोसा रखो……न्याय की मांग करो… विश्वास रखो’’। इन कातिलों/बलात्कारियों का सज़ा पूरी किए बिना, जल्दी छूटना इस बात को पुनः स्थापित और पुख्ता करता है कि वे सभी आदमी जो महिलाओं के साथ बलात्कार या अन्य किसी तरह की हिंसा करते है वे आसानी से दण्ड मुक्त हो सकते हैं। इस संदर्भ में यह और भी ज़रुरी है के इस रिहाई को निरस्त किया जाए।

इसे भी पढ़ें: बिलकीस बानो केस: महिलाओं के सम्मान और हर गैर जरूरी मुद्दे को उछालने वाले टीवी चैनल क्यों हैं खामोश?



Source link