पैसा बनाओ

Post Office Scheme : लेना है FD से ज्‍यादा ब्‍याज तो इस योजना में करें निवेश, टैक्‍स छूट भी मिलेगी



हाइलाइट्स

इनकम टैक्स की धारा 80C के तहत 1.5 लाख रुपये के निवेश पर टैक्स छूट मिलती है.
सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में 60 साल या इससे ज्यादा की उम्र का व्‍यक्ति ही निवेश कर सकता है.
इसमें लगाए गए पैसे पर 7.6 फीसदी की दर से ब्‍याज दिया जाता है.

नई दिल्‍ली. भारतीय डाकघर कई बचत योजनाएं चलाता है. बढिया रिटर्न और निवेश के सुरक्षित होने के कारण ये काफी लोकप्रिय भी हैं. वरिष्‍ठ नागरिकों के लिए भी भारतीय डाकघर एक शानदार निवेश योजना का संचालन करता है. पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (Senior Citizens Savings Scheme – SCSS) नामक इस योजना में बैंक एफडी से ज्‍यादा ब्‍याज मिलता है. साथ ही निवेशक को टैक्‍स छूट का लाभ भी दिया जाता है.

केंद्र सरकार ने 1 अक्टूबर 2022 से इस स्कीम की ब्याज दरों में इजाफा किया है. पहले इसमें 7.4 फीसदी सालाना की दर से ब्याज मिलता था. वहीं, अब यह बढ़कर 7.6 फीसदी हो गया है. सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में 60 साल या इससे ज्यादा की उम्र का व्‍यक्ति ही निवेश कर सकता है. इसके अलावा नागरिक प्रशासन में सेवा देकर वीआरएस ले चुके 55 से 60 साल के कर्मचारी और रक्षा सेवा से सेवानिवृत होने वाले 50 से 60 साल के कर्मचारी भी इसमें खाता खुलवा सकते हैं.

ये भी पढ़ें-  Festival-season loan : इन बातों का नहीं रखा ख्‍याल तो ‘सस्‍ता’ लोन पड़ जाएगा बहुत महंगा

FD से ज्यादा ब्याज

इस योजना में 1,000 रुपये से ही निवेश शुरू किया जा सकता है. वहीं, ज्यादा से ज्यादा 15 लाख रुपये इस स्‍कीम में लगाए जा सकते हैं. इसमें लगाए गए पैसे पर 7.6 फीसदी की दर से ब्‍याज दिया जाता है. ज्यादातर बैंक वरिष्ठ नागरिकों को 6 फीसदी से 7 फीसदी तक ब्याज ऑफर कर रहे हैं. ऐसे में यह बैंकों की FD के मुकाबले ज्‍यादा ब्‍याज तो दे ही रही है, साथ ही टैक्‍स छूट भी प्रदान कर रही है. सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में इनकम टैक्स की धारा 80C के तहत 1.5 लाख रुपये के निवेश पर टैक्स छूट मिलती है.

ये भी पढ़ें-  तीन-तीन कंपनियां चलाती हैं ऋषि सुनक की पत्‍नी अछता मूर्ति, ब्रिटेन में लगा था टैक्‍स बचाने का आरोप-अब पति हैं प्रधानमंत्री

मैच्‍योरिटी से पहले निकाली जा सकती है रकम

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में अकाउंट खुलवाने के बाद कभी भी इससे बंद किया जा सकता है. हां, एक साल से कम अवधि में अकाउंट बंद करने पर निवेश की गई रकम पर ब्याज नहीं दिया जाता है. अगर आप 1 से 2 साल की अवधि के बीच में अकाउंट बंद कराते हैं, तो आपको दी गई ब्याज की राशि में से 1.5 फीसदी की कटौती की जाएगी. ऐसे ही अगर आप 2 से 5 सालों के बीच में निवेश को बंद कराते हैं तो 1 फीसदी की कटौती की जाएगी.

Tags: Business news in hindi, Investment, Investment tips, Personal finance, Post Office



Source link