ताज़ा खबर

दूरस्थ क्षेत्रों के लोगों को मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना के माध्यम से दी जा रही है स्वास्थ्य सुविधाएं ,खून जांच, बीपी, शुगर, बुखार डायरिया, सहित अन्य रोगों के मरीजों की स्वास्थ्य जांच कर किया जाता है उपचार: सीएमएओ डॉ. केसरी


रायगढ़  ,ग्रामीण क्षेत्रों में आम नागरिकों तक बेहतर चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराने के लिए फ्लैगशिप योजना के तहत मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना का संचालन किया जा रहा है। इसके अंतर्गत मोबाईल मेडिकल यूनिट के माध्यम से स्वास्थ्य कर्मचारी हाट-बाजारों, दूरस्थ, पहाड़ी क्षेत्रों सहित अन्य भीड़-भाड़ वाले स्थानों में शिविर लगाकर लोगों को स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराते है। जिसमें बीपी, शुगर, बुखार डायरिया, दस्त एवं अन्य रोग से ग्रसित मरीजों की स्वास्थ्य जांच कर उपचार की सुविधाएं उपलब्ध करायी जाती है।

हाट बाजारों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिलने से ग्रामीणों एवं आमजनों को दूरस्थ स्वास्थ्य केंद्रों में नहीं जाना पड़ रहा है। मोबाईल मेडिकल यूनिट द्वारा की जा रही स्वास्थ्य सुविधा से आमजन काफी उत्साहित है।

विकासखंड खरसिया के बायंग निवासी 35 वर्षीय भुवन पटेल बताते हैं कि वे घरेलू सामग्री की खरीदारी करने बाज़ार हमेशा जाते थे पर अब बाजार में मेडिकल टीम के होने से स्वास्थ्य लाभ भी मिल रहा है। विगत कुछ दिनों से उन्हें बुखार था परंतु स्वास्थ्य केन्द्र गांव से दूर होने के कारण वे जांच कराने नहीं जा पा रहा था। घर पर ही दवाइयों का सेवन कर रहे थे जिससे तात्कालिक आराम तो मिलता था परंतु स्थायी रूप से स्वास्थ्य लाभ नहीं हो रहा था। फिर हाट बाजार में आई मेडिकल टीम के पास अपना जांच कराया। टीम द्वारा उनका स्वास्थ्य परीक्षण व खून की जांच की गई । जांच उपरांत निःशुल्क दवाई एवं उचित परामर्श प्रदान की गई। यहां मिले इलाज एवं दवाइयों से काफी लाभ मिला और यह योजना ग्रामीणजनों एवं दूरस्थ अंचल के लोगों के लिए सुविधा व बेहद लाभदायक है।

हाट बाजार क्लीनिक के बारे में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एसएन केसरी कहते हैं, “ हमारी टीम के बाजारों में पहुंचते ही बड़ी संख्या में ग्रामीण स्वास्थ्य शिविर में जांच कराने आते है। यहां ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण कर उन्हें निःशुल्क दवाइयां वितरण की जाती हैं साथ ही बारिश के दौरान मौसमी बीमारियों से बचने, सर्पदंश, मलेरिया डेंगू से बचाव के लिए आवश्यक जानकारी भी देते हैं। टीम द्वारा लोगों को मच्छरदानी के उपयोग, जमीन मे न सोने, आस-पास बरसात के पानी को जमा न होने देने सहित अन्य उपाय अपनाने के सुझाव दिए जाते है। मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लीनिक योजना के मोबाईल मेडिकल टीम में अनुभवी चिकित्सक, एएनएम, फार्मासिस्ट द्वारा सेवा प्रदान किया जाता है तथा अत्याधुनिक लैब के माध्यम से गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य जांच प्रदाय किया जाता है। मेडिकल टीम के द्वारा मरीजों को प्राथमिक उपचार के साथ टीकाकरण, एनीमिया, कुपोषण से बचाव तथा सुरक्षित संस्थागत प्रसव के बारे में भी विस्तारपूर्वक जानकारी दी जाती है।”

एक साल में 1,944 शिविर का आयोजन
स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले में बीते एक साल में सभी विकासखंडों के 141 हाट बाजारों में 1,944 शिविरों का आयोजन कर कुल 1,33,843 लोगों को स्वास्थ्य सुविधा प्रदान किया गया है। जिले में 24 डेडिकेटेड वाहन उपलब्ध है। मोबाईल मेडिकल यूनिट के द्वारा जिले के विकासखंड बरमकेला के चिन्हांकित 18 हाट-बाजारों में 236 शिविरों के माध्यम से कुल 17,013 लोगों को लाभान्वित किया गया है। इसी प्रकार सारंगढ़ के 18 हाट बाजारों में 238 शिविरों में 15,806, पुसौर के 12 हाट बाजार में 191 शिविरों में 14761, लोईंग के 12 हाट-बाजारों में 146 शिविरों में 10,114, खरसिया में 23 हाट-बाजारों में 223 शिविरों के द्वारा 13,129, तमनार में 12 हाट-बाजारों में 209 शिविरों में 13,797, घरघोड़ा में 11 हाट-बाजारों में 191 शिविरों में 15267, लैलूंगा के 17 हाट-बाजारों में 223 शिविरों में 15,503 एवं धरमजयगढ़ के 18 बाजारों के 287 शिविरों में 18,453 लोगों को स्वास्थ्य लाभ प्रदान किया गया है। कोरोना महामारी के दौरान मोबाईल मेडिकल यूनिट का उपयोग ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के कोविड टेस्ट में किया गया था और अभी जरूरत के अनुसार भी कोविड में काम लिया जा रहा है। मेडिकल टीम हाट-बाजारों, मुख्य चौक-चौराहों में लोगों का कोविड टेस्ट करती है साथ ही लोगों को कोरोना से बचने के संबंध में आवश्यक जानकारी भी उपलब्ध कराती है।