gold rate 12 m
पैसा बनाओ

Gold Rate: साल के आखिरी तक 52 हजार होगा सोने का भाव! जानिए एक्सपर्ट ने क्यों जताई तेजी की संभावना



हाइलाइट्स

डॉलर इंडेक्स में गिरावट होने से गोल्ड के भाव में तेजी आने की उम्मीद है.
अमेरिका में मंदी की आशंका से आने वाले दिनों में सोने में निवेश बढ़ेगा.
त्योहारी सीजन में बढ़ती मांग और उच्च स्तर से सोने के भाव में गिरावट भी अहम कारण होंगे.

मुंबई. अगर आप मौजूदा स्तरों पर सोने में निवेश करना चाहते हैं और यह भी जानना चाहते हैं कि क्या आने वाले दिनों में गोल्ड का भाव बढ़ेगा और कहां तक जाएगा, तो आप कमोडिटी मार्केट के एक्सपर्ट के जरिए यह जान सकते हैं. फिलहाल सोने के भाव में तेजी का सिलसिला जारी है. भारतीय सर्राफा बाजार में गोल्ड की साप्ताहिक कीमतों में तेजी आई है. इंडिया बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन (IBJA) की वेबसाइट के मुताबिक, इस वीक (31 अक्टूबर से 4 नवंबर) की शुरुआत में यानी 31 अक्टूबर को 24 कैरेट सोने (Gold) का रेट 50,480 था, जो शुक्रवार तक बढ़कर 50,522 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया है.

मुंबई स्थित केडिया एडवाइजरी के एमडी अजय केडिया के अनुसार, इस साल के आखिरी तक सोने का भाव 52 हजार रुपये के स्तर तक जा सकता है. गोल्ड के रेट में तेजी की संभावना को लेकर उन्होंने कुछ अहम कारण बताए हैं, जो ग्लोबल और घरेलू संकेतों से जुड़े हुए हैं.

डॉलर इंडेक्स के नीचे जाने से सोने को मिलेगी मजबूती
आमतौर पर डॉलर की मजबूती की मजबूती सोने की कीमतों को कम और नियंत्रण में रखता है, जबकि डॉलर में कमजोरी आने से मांग में वृद्धि के चलते सोने की कीमतें बढ़ जाती हैं,क्योंकि डॉलर के कमजोर होने पर अधिक सोना खरीदा जा सकता है. जैसा कि डॉलर इंडेक्स नीचे जा रहा है इसलिए गोल्ड के भाव में तेजी आने की उम्मीद है.

ये भी पढ़ें- सोना-चांदी चमके, देखें त्‍योहारों के बाद कितना महंगा हो गया है गोल्‍ड?

इसके अलावा जियो-पॉलिटिकल टेंशन मुख्य रूप से यूक्रेन और रूस के बीच जारी सैन्य संघर्ष बरकरार रहने से गोल्ड के भाव बढ़ सकते हैं. क्योंकि इस युद्ध के शुरू होने के बाद सोने के भाव में तेजी आई थी लेकिन बाद में अन्य कारणों के हावी होने से सोने में तेजी का ये सिलसिला थम गया था. लेकिन अब तक दोनों देशों के बीच युद्ध जारी है.

मंदी के डर से गोल्ड में निवेश सुरक्षित विकल्प
यूएस और यूरोप में बढ़ती महंगाई और ब्याज दरों के कारण मंदी की आशंका गहराने लगी है. अगर अमेरिका में अगले साल मंदी आती है तो निवेशक इक्विटी और रियल एस्टेट मार्केट के बजाय गोल्ड में निवेश करना ज्यादा सुरक्षित मानेंगे और इस कारण से सोने की मांग बढ़ने से इसके भाव में बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है.

गोल्ड के भाव में करेक्शन से वैल्युएशन हुए आकर्षक
अगस्त 2020 में घरेलू बाजार में 24 कैरेट गोल्ड का भाव लगभग 56,500 के स्तर पर था. वहीं, इसी साल मार्च में यह रेट 55,400 के आसपास रहा. फिलहाल सोने का मौजूदा भाव 50,522 है यानी देखा जाए तो गोल्ड की कीमतों में उच्च स्तर से करीब 8 से 10 फीसदी की गिरावट आ चुकी है. ऐसी स्थिति में लोग सोने में निवेश की ओर आकर्षित होंगे.

भारत-चीन में गोल्ड की डिमांड बढ़ी
भारत में त्योहारी सीजन में सोने की डिमांड बढ़ी है. गोल्ड माइनर्स लॉबी वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के अनुसार, जनवरी-सितंबर की अवधि में सोने के आभूषणों की मांग 381 टन थी, जो तीसरी तिमाही में ज्यादा थी. जिस तरह भारत में सोने की मांग बढ़ी है. ठीक, उसी तरह चीन में न्यू ईयर सेलिब्रेशन शुरू होने वाला है इसलिए वहां भी सोने की डिमांड बढ़ने से भाव में तेजी आ सकती है.

Tags: 24 carat gold price, Business news, Gold Rate



Source link