पैसा बनाओ

Fusion Microfinance IPO: ग्रे मार्केट में मिल रहा अच्छा भाव, अप्लाई करने से पहले जानें पूरी डिटेल



हाइलाइट्स

आप इस आईपीओ के लिए 2 से 4 नवंबर तक बोली लगा सकते हैं.
आईपीओ में 600 करोड़ के फ्रेश इक्विटी शेयर जारी किए जाएंगे.
आज ग्रे मार्केट में इसके शेयर ₹24 के प्रीमियम (GMP) पर चल रहे हैं.

नई दिल्ली. फ्यूज़न माइक्रोफाइनेंस (Fusion Microfinance) का आईपीओ 2 नवम्बर को खुलेगा और आप इसके लिए 4 नवम्बर 2022, शुक्रवार, तक बोली लगा सकेंगे. यह माइक्रोफाइनेंस कंपनी ग्लोबल प्राइवेट इक्विटी में दिग्गज कंपनी वारबर्ग पिन्कस (Warburg Pincus) द्वारा समर्थित है. फ्यूज़न माइक्रोफाइनेंस के अलावा, दो और आईपीओ भी इसी सप्ताह लॉन्च होने वाले हैं.

फ्यूज़न माइक्रोफाइनेंस आईपीओ में 600 करोड़ के फ्रेश इक्विटी शेयर जारी किए जाएंगे. इनके अलावा प्रमोटरों और मौजूदा शेयरधारकों द्वारा 13,695,466 इक्विटी शेयरों की बिक्री की पेशकश (OFS) शामिल है. ऑफर फॉर सेल के तहत शेयर बेचने वालों में देवेश सचदेव, मिनी सचदेव, हनी रोज इन्वेस्टमेंट लिमिटेड, क्रिएशन इंवेस्टमेंट्स फ्यूज़न, एलएलसी, ओइकोक्रेडिट इक्यूमेनिकल डेवलपमेंट को-ऑपरेटिव सोसाइटी यू.ए. और ग्लोबल फाइनेंशियल इंक्लूजन फंड शामिल हैं.

ये भी पढ़ें – Paytm, Nykaa, PB Fintech में पैसा लगाने वाले निवेशक सावधान, ‘बड़ी गिरावट’ अभी बाकी!

बाजार पर नजर रखने वालों के अनुसार, फ्यूज़न माइक्रोफाइनेंस के शेयर आज ग्रे मार्केट में ₹24 के प्रीमियम (GMP) पर चल रहे हैं. कंपनी के शेयर मंगलवार, 15 नवंबर, 2022 को स्टॉक एक्सचेंज बीएसई और एनएसई पर सूचीबद्ध होने की उम्मीद है. 10 नवंबर 2022 को शेयरों का आवंटन होने की आशा है. कंपनी ने अपने ड्राफ्ट पेपर में कहा है कि वह इस इश्यू से प्राप्त होने वाली पूंजी को अपना आधार बढ़ाने के लिए इस्तेमाल करना चाहती है.

महिलाओं को सशक्त बनाने का है काम
नई दिल्ली स्थित मुख्यालय वाली माइक्रोफाइनेंस कंपनी भारतभर में वंचित महिलाओं को अधिक से अधिक आर्थिक अवसरों तक उनकी पहुंच को सुविधाजनक बनाने के लिए वित्तीय सेवाएं प्रदान करती है. कंपनी का बिजनेस एक जॉइन्ट लायबिलिटी ग्रुप लेंडिंग मॉडल पर चलता है, जिसमें कुछ महिलाएं मिलकर एक समूह बनाती हैं (आमतौर पर 5 से 7 सदस्य होते हैं) और एक दूसरे के ऋण की गारंटी देते हैं.

तस्वीरों में: इन शेयरों को खरीदना पसंद कर रहे हैं म्यूचुअल फंड्स! क्या आपके पास इनमें से कोई है?

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, सीएलएसए इंडिया, जेएम फाइनेंशियल और आईआईएफएल सिक्योरिटीज इश्यू के मर्चेंट बैंकर हैं. लिंक इनटाइम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (Link Intime India Private Ltd) इस आईपीओ के लिए रजिस्ट्रार है. दिसंबर 2018 में, वारबर्ग ने कंपनी में ₹520 करोड़ का निवेश किया था, जिसने 2018-19 में प्रबंधन (एयूएम) के तहत संपत्ति में 45% की वृद्धि हासिल की और दिसंबर 2019 तक ₹3,350 करोड़ का पोर्टफोलियो था.

Tags: Investment scheme, IPO, Money Making Tips, Stock market



Source link