वारदात

कर्ज में डूबे हिमाचल में हजारों करोड़ के चुनावी वादे, बीजेपी सरकार और पीएम का मिशन ‘उद्घाटन और घोषणा’



लेकिन इनमें से अधिकतर परियोजनाएं आदि मुख्यमंत्री या उनके सबसे वरिष्ठ मंत्री महेंद्र सिंह के क्षेत्रों में ही हैं। ऐसे आरोप बीजेपी के अंदर और बाहर दोनों तरफ से लग रहे हैं। आरोप लगता रहा है कि पिछले पांच वर्षों में मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र सिराज और जल मंत्री महेंद्र सिंह के विधानसभा क्षेत्र धर्मपुर के अलावा ज्यादातर इलाकों की अनदेखी की गई है।

पड़ताल से सामने आया है कि पिछले डेढ़ माह में प्रदेश में हुए शिलान्यास और उद्घाटनों की कड़ी में धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र में 980 करोड़ रूपये के प्रोजेक्टस के उद्घाटन और शिलान्यास 8 सितंबर को हुए थे। वहीं सिराज की बात करें तो सिराज क्षेत्र में 600 करोड़ रूपये के करीब के कामों के उद्घाटन और शिलान्यास हुआ है।

बता दें कि हिमाचल प्रदेश सरकार 65 हजार करोड़ रुपए के कर्ज में डूबी है और बीते 5 साल के दौरान राज्य ने 16998 करोड़ रूपए का नया कर्ज लिया है। बताया जा रहा है कि चुनावी वर्ष में हिमाचल सरकार मुफ्त बिजली-पानी सेवाओं, कर्मचारियों को एरियर और अन्य वित्तीय लाभ की घोषणाओं के चलते और कर्ज लेने की तैयारी में है। बीजेपी सरकार इस चुनावी वर्ष में कर्मचारियों को वित्तीय लाभ देने की घोषणा कर चुकी है, और अनुमान के अनुसार इस पर 2 हजार करोड़ से अधिक खर्च आने की संभावना है।

इसके अलावा मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने दस हजार स्कूली छात्रों को स्मार्टफोन भी देने की घोषणा की।



Source link