छत्तीसगढ़

दिल्ली दंगा: अतहर के वकील और परिजनों ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- जेल में हो रही बर्बरता, कोर्ट के आदेश को भी…



25 साल के अतहर खान इन्हीं एक दर्जन लोगों में हैं। उन पर दंगे के सिलसिले में जो दो मुकदमें दर्ज हैं, उनमें तो उन्हें जमानत मिल चुकी है लेकिन यूएपीए के तहत दर्ज मामले की जमानत का मसला लटका हुआ है। अतहर के मामा नजमुद्दीन का कहना है कि पिछले 6 महीने से मामले में कोई सुनवाई ही नहीं हो रही। कड़कड़डूमा सेशन कोर्ट में बेल की सुनवाई के लिए 6 अगस्त और 24 अगस्त के बाद अगली तारीख 5 सितंबर की मिली है।

वैसे, लगता है कि संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) विरोधी आंदोलन में सक्रिय रहने की वजह से ही उसे यह सब भुगतना पड़ रहा है। दूसरी बड़ी वजह यह लगती है कि अल्पसंख्यक होने के कारण भी पुलिस-प्रशासन ने उसे निशाने पर ले रखा है। दरअसल, अतहर के वकील अर्जुन दीवान ने कोर्ट में आवेदन देकर आरोप लगाया है कि कोर्ट से जेल वापसी पर अतहर के कपड़े पूरी तरह उतारकर तलाशी ली जाती है। उन्होंने इस किस्म की तलाशी की सीसीटीवी फुटेज की मांग भी की है। लेकिन कोर्ट के आदेश के बाद भी इस किस्म का फुटेज अब तक नहीं दिया गया है।

अतहर को दिल्ली पुलिस ने दंगे के करीब पांच माह बाद 2 जुलाई, 2020 को दिल्ली में उसके घर से गिरफ्तार किया था। अतहर के पिता अफजल खान का आरोप है कि जेल में अतहर को धार्मिक आधार पर प्रताड़ित किया जा रहा है और जेल अधिकारी उसे अपशब्द भी कहते हैं। पेशी के लिए कोर्ट लाए जाने के दौरान उसे प्रताड़ित किया जाता है और ऐसा कई बार किया गया है। 15 नवंबर, 2021 को कड़कड़डूमा कोर्ट से वापसी में मंडोली जेल में तलाशी के दौरान उसे बहुत अधिक प्रताड़ित किया गया जबकि मई, 2022 में भी कड़कड़डूमा कोर्ट में पेशी से वापसी पर अतहर को तलाशी के दौरान प्रताड़ित किया गया, गालियां दी गईं और जूते फाड़ दिए गए। उन्होंने बताया कि ‘शुरू में उसे इतना ज्यादा प्रताड़ित किया गया कि उसकी आवाज साफ नहीं निकल पाती थी और उसके बात करने से दर्द जाहिर होता था। अब भी यह सिलसिला जारी है। इस किस्म की ज्यादती को लेकर ही हमने अदालत में दरख्वास्त लगाई है और मजिस्ट्रेट ने घटना के दिन की सीसीटीवी फुटेज मांगी है। लेकिन हमारी जानकारी में तो फुटेज कोर्ट में जमा नहीं किया गया है।’



Source link