छत्तीसगढ़

दिल्ली MCD चुनाव का ऐलान, 4 दिसंबर को मतदान, 7 दिसंबर को आएंगे नतीजे, जानें कितने वार्डों में होंगे चुनाव



दिल्ली राज्य चुनाव आयुक्त विजय देव ने बताया कि दिल्ली में चार दिसंबर को मतदान होंगे और सात दिसंबर को नतीजे घोषित किए जाएंगे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

Engagement: 0

दिल्ली नगर निगम चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही चुनाव आचार संहिता लग गई। दिल्ली राज्य चुनाव आयुक्त विजय देव ने बताया कि दिल्ली में चार दिसंबर को मतदान होंगे और सात दिसंबर को नतीजे घोषित किए जाएंगे। इसी के साथ रात 10 बजे से सुबह छह बजे तक लाउडस्पीकर पर रोक रहेगी। 

चुनाव से संबंधित महत्वपूर्ण बिंदु

  • दिल्ली में 4 दिसंबर को होगा MCD चुनाव

  • 7 दिसंबर को आएंगे MCD चुनाव के नतीजे

  • आज से ही आचार संहिता लागू

  • 250 वार्ड में होंगे चुनाव

  • 42 सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित

  • SC महिलाओं के लिए 21 सीट अरक्षित

  • 104 सीट महिलाओं के लिए आरक्षित

  • दिल्ली में 13635 मतदान केंद्र होंगे

  • दिल्ली में 1 करोड़ 46 लाख 73 हजार मतदाता

  • चुनाव में ईवीएम का इस्तमाल होगा

  • बैलेट पेपर में उम्मीदवारों का फोटो होगा

  • चुनावों में एक लाख से ज्यादा कर्मचारियों की तैनाती होगी

  • सभी जगह वीडियोग्राफी के इंतजाम किए गए हैं

एकीकृत होने के बाद दिल्ली नगर निगम के 250 वार्डों पर चुनाव होने जा रहा है। इससे पहले दिल्ली नगर निगम तीन भागों में विभाजित था और कुल 272 वार्ड थे। हालांकि, नए परिसीमन में वार्ड की संख्या घटाकर 272 से 250 कर दी गई है। एमसीडी चुनाव में फिलहाल 1.49 करोड़ मतदाता है।

चुनाव आयोग की ओर से दिल्ली नगर निगम की 250 सीटों में से अनुसूचित जाति के लिए 42 सीटें आरक्षित की गई हैं। वहीं महिलाओं के लिए भी 50 फीसदी सीटें रिजर्व होगी। चुनाव आयोग ने एमसीडी के वार्डों का परिसीमन करने के बाद उनको आरक्षित करने का कार्य भी कर दिया है। इस तरह से अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित वार्डों में महिलाओं के लिए 21 वार्ड और सामान्य वर्ग 104 वार्ड महिलाओं के लिए आरक्षित होंगे।

अब तीन इलाके नहीं,एक मेयर और एक कमिश्नर

दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) तीनों इलाकों में बंटी हुई थी, जो उत्तरी दिल्ली, दक्षिण दिल्ली और पूर्वी दिल्ली के रूप में जानी जाती थी। मोदी सरकार ने मई 2022 में दिल्ली के तीनों निगमों को मिलाकर एकीकृत कर दिया। इस तरह एक एमसीडी हो गई है। दिल्ली एमसीडी में अभी तक मेयर, कमिश्नर और चीफ इंजीनियर तीन-तीन हुआ करते थे, जो अलग-अलग जोन के होते थे। एमसीडी के एकीकरण किए जाने के बाद अब मेयर, कमिश्नर और चीफ इंजीनियर एक-एक होंगे। उनके पास पहले से ज्यादा शक्तियां होंगी।

दिल्ली में ऐसे बनेंगे मेयर 

दिल्ली नगर निगम चुनाव में सीधे मेयर का चुनाव नहीं किया जाता बल्कि पार्षद के जरिए होता है। दिल्ली में 250 पार्षद के लिए चुनाव होंगे। ऐसे में जिस पार्टी के सबसे ज्यादा पार्षद जीतकर आएंगे, उस पार्टी का मेयर होगा।




Source link