छत्तीसगढ़

दिल्लीः LG ने AAP विधायकों पर कानूनी कार्रवाई का लिया फैसला, भ्रष्टाचार के आरोपों पर वीके सक्सेना का पलटवार



दिल्ली एलजी हाउस की ओर से जारी बयान के अनुसार उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने आम आदमी पार्टी के नेताओं सौरभ भारद्वाज, आतिशी, दुर्गेश पाठक और जैस्मीन शाह सहित अन्य के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का फैसला किया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

Engagement: 0

दिल्ली में एक बार फिर केजरीवाल सरकार और उपराज्यपाल के बीच जंग तीखी हो गई है। आप विधायकों द्वारा भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाने के मामले में एलजी वीके सक्सेना के ऑफिस ने बयान जारी कर कहा है कि उन पर सारे आरोप झूठे हैं और उन्होंने इस मामले में कानूनी कार्रवाई का फैसला लिया है।

दिल्ली एलजी हाउस की ओर से जारी बयान के अनुसार उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने आम आदमी पार्टी के नेताओं सौरभ भारद्वाज, आतिशी, दुर्गेश पाठक और जैस्मीन शाह सहित अन्य के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का फैसला किया है। दरअसल इन्हीं नेताओं ने उपराज्यपाल पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए हैं। अब इस मामले में एलजी हाउस ने आरोपों को झूठा बताते हुए कानूनी कार्रवाई का फैसला लेने की बात कही है।

हाल में दिल्ली विधानसभा में आए विश्वास प्रस्ताव चर चर्चा करते हुए आम आदमी पार्टी के विधायक दुर्गेश पाठक ने आरोप लगाया था कि दिल्ली के मौजूदा उपराज्यपाल ने खादी ग्रामोद्योग आयोग के अध्यक्ष के तौर पर 1,400 करोड़ रुपये का घोटाला किया है। पाठक के अनुसार यह मामला 2016 में हुई की नोटबंदी के समय का है।

दुर्गेश पाठक के मुताबिक, नोटबंदी के दौरान मौजूदा उपराज्यपाल ने बड़े पैमाने पर पुरानी नोट बदलवाई। नोटबंदी के बाद उन्होंने काले धन को सफेद कर लिया। यह पूरा खेल खादी ग्रामोद्योग आयोग के अंदर चला। इस घोटाले को उजागर करने वाले आयोग के ही कैशियर संजीव कुमार और प्रदीप यादव थे, जिनसे जबरन यह काम करवाया गया।

आप विधायकों के आरोप के अनुसार, इन लोगों की ब्रांच में ही 22 लाख रुपये की हेरफेर की गई। इस तरह से पूरे देश की करीब 7,000 ब्रांच से करीब 1,400 करोड़ का भ्रष्टाचार हुआ है। संजीव कुमार और प्रदीप यादव ने हर फोरम में इसकी शिकायत भी की, लेकिन इसके बावजूद जांच की अध्यक्षता खुद आरोपी ने की और दोनों शिकायतकर्ताओं को निलंबित कर दिया। अब इन्हीं आरोपों पर एलजी सक्सेना ने कानूनी कार्रवाई का फैसला लिया है।




Source link