छत्तीसगढ़

दिल्ली में शराब नीति पर कांग्रेस ने केजरीवाल को दी डिबेट की चुनौती, सिसोदिया का मांगा इस्तीफा



उन्होंने आगे कहा, “मास्टर प्लान 2021 यह इजाजत नहीं देता कि रिहाइशी इलाके के अंदर शराब की दुकानें खोली जाएं, दुख की बात यह है कि केजरीवाल खोलते गए और एमसीडी-डीडीए जो बीजेपी के अधीन आती है, उन्होंने दुकानों को सील नहीं किया। 460 दुकानें खोली गई और कोई कार्रवाई नहीं हुई।”

“केजरीवाल नें सितंबर 2020 में एक कमिटी का गठन किया और कमिटी को बताना था कि शराब नीती क्या होनी चाहिए। दो सबसे महत्वपूर्ण सुझाव दिए गए और दोनों सुझावों को नहीं माना गया और यह घोटाला हुआ। दिल्ली में 425 लाइसेंस होने चाहिए थे लेकिन मात्र 30 लाइसेंस देकर पुरे दिल्ली को कारटीलाइसेंशन कर दी गई।”



Source link