राष्ट्रीय

असम-मेघालय हिंसा की CBI जांच को तैयार हुआ केंद्र, घटना के खिलाफ शिलांग में कैंडल मार्च के दौरान भड़की हिंसा



संगमा ने कहा कि अलग-अलग घटनाओं ने स्थिति को और तनावपूर्ण बना दिया है, जिसके कारण अंतत: वह स्थिति उत्पन्न हो गई, जहां मुकरोह में घटना हुई। इसलिए, यह जरूरी है कि सीमा विवाद को सुलझाने के लिए सभी प्रयास किए जाएं। उन्होंने कहा कि इस घटना के साथ, असम के साथ चल रही सीमा वार्ता में बाधा उत्पन्न हुई है और ऐसे बहुत से क्षेत्र हैं, जहां विश्वास को फिर से बनाना है। यही वजह है कि इसके लिए भारत सरकार का हस्तक्षेप आवश्यक है। इसके अलावा सीमा क्षेत्रों में लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने पर भी बात हुई।

कोनराड संगमा ने कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था कायम है। हम अपने लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने और शांति बनाए रखने के लिए विभिन्न हितधारकों के साथ संपर्क में हैं। इसके अलावा आठवीं अनुसूची में खासी और गारो भाषाओं को शामिल करने की मांग भी मुख्यमंत्री ने अमित शाह के सामने रखी।



Source link