छत्तीसगढ़

6 राज्यों की 7 विधानसभा सीटों का उपचुनाव : नतीजे देंगे संकेत कि विपक्ष में कितना है दम



हरियाणा (आदमपुर)

इस सीट से हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भजन लाल के बेटे कुलदीप बिश्नोई विधायक रहे हैं, जो इसी साल अगस्त में पाला बदलकर बीजेपी में चले गए हैं। हरियाणा में सत्तारूढ़ गठबंधन बीजेपी-जेजेपी ने यहां से बिश्नोई के बेटे भाव्या को मैदान में उतारा है जबकि कांग्रेस ने जय प्रकाश को अपना उम्मीदवार बनाया है।

अगर इस चुनाव में बिश्नोई के बेटे हारते हैं तो बीजेपी को हरियाणा में जेजेपी की बैसाखी का सहारा लेना पड़ेगा। और अगर कांग्रेस जीतती है तो इससे हरियाणा के कद्दावर विपक्षी नेता भूपिंदर सिंह हुड्डा का पलड़ा भारी हो जाएगा।

ध्यान रहे कि अक्टूबर 2019 में सत्ता में आने के बाद से बीजेपी-जेजेपी गठबंधन दो उपचुनाव हार चुका है। हालांकि इन दोनों बार उसने मजबूत चेहरों को मैदान में उतारा था।

महाराष्ट्र (अंधेरी ईस्ट – मुंबई)

महाराष्ट्र की सत्ता से महा विकास अघाड़ी सरकार के बेदखल होने के बाद यह पहला मौका है जब उद्धव ठाकरे की अगुवाईवाली शिवसेना सीधे जनता के बीच पहुंची है। यहां से यूं तो कोई अय मजबूत नेता मैदान में नहीं हैं क्योंकि बीजेपी ने आखिरी समय में एमएनएस और एनसीपी की अपील पर अपने उम्मीदवार मुरजी पटेल को मैदान से हटा लिया था। ऐसे में उद्धव की शिवसेना की उम्मीदवार ऋतुजा की जीत निश्चित मानी जा रही है। वैसे भी यह ऋतुजा के पति की मौते के बाद खाली हुई थी।



Source link