राष्ट्रीय

हिमाचल चुनाव: प्रचार में राज्य की बात तक नहीं कर रही BJP, काशी-अयोध्या और महाकाल के नाम पर मांग रही है वोट



4 सिटिंग विधायकों के टिकट काटने के बाद भी सत्‍ता विरोधी रुझान

हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के 10 विधानसभा क्षेत्रों में से 2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस खाता तक नहीं खोल पाई थी, लेकिन इस बार तस्‍वीर बदली दिख रही है। करसोग, बल्ह, सुंदरनगर, सरकाघाट, द्रंग, मंडी जोगिंद्रनगर में बीजेपी बुरी तरह फंसी है। मुख्‍यमंत्री के विस क्षेत्र सराजको छोड़कर नाचन और धर्मपुर में भी सब कुछ ठीक नहीं है। धर्मपुर से निवर्तमान विधायक और कैबिनेट मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर की बेटी ने बगावत कर दी थी। सत्‍ता विरोधी रुझान रोकने के लिए बीजेपी ने मंडी जिले में इस बार 4 सिटिंग विधायकों के टिकट काटे हैं। सुंदरनगर में बीजेपी से बागी अभिषेक ठाकुर ने भगवा खेमे को गहरी चिंता में डाल रखा है। मंडी में पंडित सुखराम को श्रंद्धांजलि के नाम पर अनिल शर्मा वोट मांग रहे हैं। मंडी में पंडित सुखराम का परिवार 1966 से 2017 तक 11 बार चुनाव जीत चुका है, लेकिन इस बार अनिल शर्मा के लिए पहाड़ की चढ़ाई बेहद मुश्किल नजर आ रही है। उनकी आया राम, गया राम की राजनीति भी लोगों को नहीं भा रही है। मंडी से बीजेपी के बागी प्रवीण शर्मा पार्टी में प्रदेश के मीडिया प्रभारी, प्रदेश सचिव और प्रदेश चुनाव प्रचार समिति के संयोजक रह चुके हैं।  मंडी में राजपूत वोटर सबसे अधिक है। कांग्रेस से यहां पूर्व प्रदेश अध्‍यक्ष कौल सिंह ठाकुर की बेटी चंपा ठाकुर मैदान में हैं। जोगिंद्रनगर में टिकट कटने से पूर्व मंत्री गुलाब सिंह ठाकुर नाराज हैं।



Source link