बॉलीवुड समाचार

जन्मदिन विशेष: बड़े पर्दे पर अमिताभ बच्चन की खामोशी के कुछ सुनहरे पल, जो इस तरह हैं, ये रही उनकी शानदार फिल्में



आइए इनमें से कुछ को देखें-

1. ‘आनंद (1971)’ – एक डॉक्टर की भूमिका निभा रहे हैं, वो बीमार राजेश खन्ना का इलाज करते हैं। उस दृश्य को याद करें जहां खन्ना अपने घर की बालकनी पर हैं, और ‘कहीं दूर जब दिन ढल जाए’, गाते हैं और उसी समय बच्चन प्रवेश करते हैं, कमरे की बत्ती बुझाते हैं और फिर, खड़े हो जाते हैं, बिना कुछ कहे।

2. ‘जंजीर (1973)’ – यह वह फिल्म थी जिसने बच्चन को हर घर में पहचान दिलाई और ‘एंग्री यंग मैन’ शब्द को चलन में ला दिया। जबकि फिल्म के संवाद, विशेष रूप से पुलिस स्टेशन मुठभेड़ को सबने देखा है लेकिन एक दृश्य है जहां इंस्पेक्टर विजय खन्ना थोड़ी तरलता दिखाते हैं और रोमांस पनपता है क्योंकि जया भादुड़ी को सुरक्षा मुहैया करते हैं। खिड़की पर खड़े होकर भोलापन दिखाते हुए गाना सुनते हैं – ‘दीवाने है, दीवानों को न घर चाहिए।’

3. ‘दीवार (1975)’ – जहां ‘जंजीर’ ने बच्चन को नाम दिया, वहीं ‘दीवार’ ने उनकी साख को बढ़ा दिया। डायलॉग से भरी फिल्म में फिर से एक दृश्य है, जब बच्चन को उनके गुरु, डावर (इफ्तेहर एक दुर्लभ नकारात्मक भूमिका में) आमंत्रित करते हैं। बच्चेन धीरे-धीरे आगे बढ़ते हैं डेस्क के चारों ओर चलते हैं, और मेज पर पैर रख कर बिना कुछ कहे बहुत कुछ कह जाते हैं।

4.’शोले (1975)‘ – जहां बच्चन को उस सीन के लिए सबसे ज्यादा याद किया जाता है, जब वो अपने दोस्त वीरू (धर्मेंद्र) के लिए मैचमेकर की भूमिका निभाते हैं, लेकिन फिल्म में कई सीन हैं जिसमें वो बिना किसी शब्द के चुपचाप अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हैं, शानदार अभिनय से।

5. ‘याराना (1981)‘ – फिल्म में बच्चन को शहर में लाकर पूरा मेकओवर किया जाता है। अपने शिष्टाचार प्रशिक्षक को टंग-ट्विस्टर के साथ चुनौती देते हैं, दोनों हाथों को घुटनों पर थप्पड़ मारते हैं, अपने बाएं कान को दाहिने हाथ से स्पर्श करते हैं, अपने बाएं हाथ का उपयोग अपनी नाक को छूने के लिए करते, हाथों को घुटनों पर फिर से थपथपाते हैं।

6.’कालिया (1981)’ – परवीन बाबी को यह सिखाने के बाद कि साड़ी को खुद पर लपेटकर कैसे पहनना है, अमिताभ उसे अपनी भाभी (आशा पारेख) से मिलवाने के लिए घर ले आते हैं। वह तुरंत बाबी को खाना पकाने के काम में लगा देती है और खुद को रसोई में समेट लेती है। बच्चन अंडे को कैसे फोड़ना है, इस बारे में संक्षिप्त निदेशरें के साथ उसकी मदद करने की कोशिश करते हैं।रांची के शायर अनवर अली के तौर पर हुआ था अमिताभ का सबसे पहला फिल्मी अवतार



Source link