छत्तीसगढ़

भारत जोड़ो यात्रा: कांग्रेस की पदयात्रा के साथ चल रहा जनसैलाब, ‘भारत यात्रियों’ की कई खास तस्वीरें आईं सामने



कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा को जनता का भरपूर प्यार मिल रहा है। जैसे जैसे ये पदयात्रा आगे बढ़ रही है, इसमें हजारों लोग जुड़ रहे हैं। यात्रा में जनसैलाब उमड़ा है। जिधर देखो उधर पदयात्री नजर आ रहे हैं। पदयात्रियों में जबरदस्त जोश देखने को मिल रहा है।

ऐशलिन मैथ्यू
ऐशलिन मैथ्यू
user

Engagement: 0

कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का आज दूसरा दिन है। कन्याकुमारी के अगस्तीस्वरम में दूसरे दिन की यात्रा शुरू करने से पहले कैंप में तिरंगा झंडा फहराया गया और झंडे को सलामी दी गई।

इसके बाद कांग्रेस नेताओं ने ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के दूसरे दिन की शुरुआत की। पार्टी सांसद राहुल गांधी, वरिष्ठ नेता और सांसद पी. चिदंबरम, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और अन्य ने कन्याकुमारी के अगस्तीस्वरम में पदयात्रा शुरू की।

राहुल गांधी ने कन्याकुमारी के ‘विवेकानंद पॉलिटेक्निक’ से 118 अन्य “भारत यात्रियों ” और कई अन्य वरिष्ठ नेताओं एवं कार्यकर्ताओं के साथ पदयात्रा की शुरुआत की।

पार्टी ने राहुल गांधी समेत 119 नेताओं को “भारत यात्री” नाम दिया है जो कन्याकुमारी से पदयात्रा करते हुए कश्मीर तक जाएंगे। ये लोग कुल 3570 किलोमीटर की दूरी तय करेंगे।

जैसे-जैसे पदयात्रा आगे बढ़ रही है, इसमें हजारों लोग जुड़ रहे हैं। यात्रा में जनसैलाब उमड़ा है। जिधर देखो उधर पदयात्री नजर आ रहे हैं। पदयात्रियों में जबरदस्त जोश देखने को मिल रहा है।

गौरतलब है कि कन्याकुमारी में बुधवार शाम को 5 बजे जनसभा का आयोजन किया गया था। इसके बाद ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की शुरुआत हुई थी।

यात्रा शुरू करने से पहले राहुल गांधी कन्याकुमारी में विवेकानंद रॉक मेमोरियल, तिरुवल्लुवर स्टैच्यू और कामराज मेमोरियल भी गए थे। पदयात्रा 11 सितंबर को केरल पहुंचेगी और अगले 18 दिनों तक राज्य से होते हुए 30 सितंबर को कर्नाटक पहुंचेगी, और उसके बाद उत्तर की तरफ अन्य राज्यों में जाएगी।

पदयात्रा दो बैच में चल रही है, एक सुबह 7 से 10:30 बजे तक और दूसरी दोपहर 3:30 बजे से शाम 6:30 बजे तक। औसतन रोजाना लगभग 22-23 किमी चलने की योजना है। पार्टी ने राहुल गांधी समेत 119 नेताओं को ‘भारत यात्रियों’ के रूप में वर्गीकृत किया है, जो कन्याकुमारी से श्रीनगर तक पूरी दूरी तय करेंगे। कन्याकुमारी से श्रीनगर तक की 3,570 किलोमीटर की यह यात्रा लगभग पांच महीने में 12 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों से होकर गुजरेगी।




Source link