राष्ट्रीय

पीएचडी रद्द होने के बाद जामिया में सफूरा जरगर के प्रवेश पर भी प्रतिबंध लगा, CAA प्रोटेस्ट का किया था नेतृत्व



जामिया मिल्लिया इस्लामिया ने सीएए के खिलाफ छात्रों के प्रोटेस्ट का चेहरा रहीं सफूरा जरगर के पीएचडी दाखिले को रद्द करने के बाद अब कैंपस में उनके प्रवेश पर भी रोक लगा दी है। यानी जहां एक ओर सफूरा जरगर का पीएचडी दाखिला रद्द कर दिया गया, वहीं अब वह जामिया कैंपस में भी नहीं जा सकेंगी। जामिया के चीफ प्राक्टर ने कहा कि सफूरा जरगर दुर्भावनापूर्ण और राजनीतिक एजेंडे की पूर्ति के लिए जामिया परिसर के छात्र-छात्राओं को मंच के रूप में इस्तेमाल कर रही थी, जिसके कारण यह आदेश जारी किया गया है।

सफूरा जरगर जामिया मिलिया इस्लामिया में एमफिल की छात्रा और जामिया समन्वय समिति की मीडिया समन्वयक थीं। सफूरा को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध के दौरान उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा मामले में गैर कानूनी गतिविधियां निरोधक अधिनियम (यूएपीए) के तहत गिरफ्तार किया गया था। वह 10 अप्रैल से 24 जून 2020 तक जेल में थी। उन पर दिल्ली दंगों की साजिश का हिस्सा होने और 23 फरवरी 2020 को भड़काऊ भाषण देने का आरोप लगाया गया था।



Source link