छत्तीसगढ़

अर्थजगत की खबरें: 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी खत्म, 1.5 लाख करोड़ की लगी बोली, अमेरिकी डॉलर के आगे रुपया थोड़ा संभला



5जी स्पेक्ट्रम नीलामी खत्म, 1.5 लाख करोड़ की लगी बोली, रिलायंस जियो अव्वल

5जी स्पेक्ट्रम की मेगा नीलामी सोमवार को समाप्त हो गई, जिसमें सात दिनों में 40 राउंड के दौरान 1.5 लाख करोड़ रुपये से अधिक की रिकॉर्ड बोली लगाई गई। इस निलामी में रिलायंस जियो सबसे आगे रही। अब तक की सबसे बड़ी स्पेक्ट्रम नीलामी खत्म हो गई है, जिसमें कुल 1,50,173 करोड़ रुपये के स्पेक्ट्रम की बिक्री हुई है। रविवार को 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी के छठे दिन 37 राउंड के बाद 1,50,130 करोड़ रुपये की बोली के साथ बोली के आंकड़े में वृद्धि देखी गई थी।

उद्योग विश्लेषकों के अनुसार, रिलायंस जियो ने 84,500 करोड़ रुपये से अधिक की बोली लगाई है, जबकि एयरटेल की बोली 46,500 करोड़ रुपये से अधिक की है। वोडाफोन-आइडिया ने करीब 18,500 करोड़ रुपये की बोली लगाई है, जबकि अडानी एंटरप्राइजेज की एक इकाई ने करीब 5,000 करोड़ रुपये की बोली लगाई है। उत्तर प्रदेश ईस्ट सर्कल में 1800 मेगाहट्र्ज बैंड के लिए जियो और एयरटेल जमकर बोली लगा रहे थे।

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया थोड़ा संभला, 23 पैसे की बढ़त के साथ 79.02 पर बंद

विदेशी निवेशकों की आमद से मजबूत घरेलू शेयर बाजारों के कारोबार की वजह से अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 23 पैसे की तेजी के साथ 79.02 (प्रोविजनल) पर बंद हुआ। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में, भारतीय मुद्रा 79.02 पर बंद हुआ, जबकि पिछले कारोबारी सत्र में 79.25 पर बंद हुआ था। 79.02 पर समाप्त होने से पहले रुपया 79.00 के उच्च और 79.22 के निचले स्तर को छू गया है।

अनिंद्य बनर्जी, वीपी, करेंसी डेरिवेटिव्स एंड इंटरेस्ट रेट डेरिवेटिव्स, कोटक सिक्योरिटीज लिमिटेड ने कहा, “यूएसडीआईएनआर स्पॉट 23 पैसे कम 79.02 पर बंद हुआ, एफपीआई प्रवाह सकारात्मक हो गया। फॉरवर्ड प्रीमियम में सुधार से निर्यातक बाजार में आए हैं। साथ ही, विदेशों में यूएसडी में नरमी, भारत में बेहतर विकास ²ष्टिकोण, फॉरवर्ड प्रीमियम में बढ़ोतरी ने बाजार में व्यापारियों को आकर्षित किया है, जो लंबे रुपये और कम अमरीकी डालर की ओर बढ़ते हैं।”

जुलाई में जीएसटी संग्रह में 28 प्रतिशत की वृद्धि

जीएसटी संग्रह जुलाई में 1,48,995 करोड़ रुपये रहा, जो जीएसटी लागू होने के बाद से दूसरा सबसे अधिक संग्रह है। जुलाई का संग्रह पिछले साल के इसी महीने में दर्ज किए गए 1,16,393 करोड़ रुपये के जीएसटी राजस्व से 28 प्रतिशत अधिक है। वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि कुल जीएसटी संग्रह में केंद्रीय जीएसटी 25,751 करोड़ रुपये, राज्य जीएसटी 32,807 करोड़ रुपये, एकीकृत जीएसटी 79,518 करोड़ रुपये और उपकर 10,920 करोड़ रुपये है।

लगातार पांच महीनों से मासिक जीएसटी राजस्व 1.4 लाख करोड़ रुपये से अधिक रहा है।
मंत्रालय ने कहा कि महीने के दौरान, माल के आयात से राजस्व 48 प्रतिशत अधिक था और घरेलू लेनदेन (सेवाओं के आयात सहित) से राजस्व पिछले साल इसी महीने के दौरान इन स्रोतों से 22 प्रतिशत अधिक था। सरकार ने केंद्रीय जीएसटी के लिए 32,365 करोड़ रुपये और एकीकृत जीएसटी से राज्य जीएसटी को 26,774 करोड़ रुपये का निपटान किया है। नियमित निपटान के बाद जुलाई में केंद्र और राज्यों का कुल राजस्व सीजीएसटी के लिए 58,116 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के लिए 59,581 करोड़ रुपये है।

अफगानिस्तान को मानवीय सहायता के रूप में 4 करोड़ डॉलर नकद मिले

केंद्रीय बैंक ने सोमवार को एक बयान में कहा कि अफगानिस्तान को मानवीय सहायता के रूप में 4 करोड़ डॉलर की नई खेप मिली है और इसे देश के एक वाणिज्यिक बैंक में जमा कर दिया गया है। द अफगानिस्तान बैंक (डीबीए) ने कहा, “अफगानिस्तान को मानवीय सहायता की एक श्रृंखला के हिस्से के रूप में, कल (31 जुलाई) को 4 करोड़ डॉलर नकद काबुल पहुंचा और उसे अफगानिस्तान इंटरनेशनल बैंक में स्थानांतरित कर दिया गया।”

अफगानिस्तान को मानवीय सहायता भेजने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को धन्यवाद देते हुए डीबीए ने कहा कि नकद सहायता पारदर्शी तरीके से खर्च की जाएगी। मानवीय सहायता के रूप में अफगानिस्तान को प्रदान की गई नकद की अंतिम किस्त 4 करोड़ डॉलर थी, जिसने युद्धग्रस्त देश को संभावित आर्थिक पतन को रोकने के लिए विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ाने में मदद की।

‘हर घर तिरंगा’ कैम्पेन में शामिल होने वाली पहली निजी कंपनी बनी गोल्डी सोलर

गुणवत्ता को लेकर सबसे ज्यादा सजग रहने वाले सोलर ब्रांड, गोल्डी सोलर ने सोमवार को सरकार के ‘हर घर तिरंगा’ कैम्पेन को सहयोग देने की घोषणा की। इस कदम से यह पहली ऐसी कंपनी बन गई है, जिसने गुजरात में 75,000 तिरंगे वितरित करने और लगाने का संकल्प लिया है। यह गतिविधि अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा, राजकोट, भावनगर, गांधीनगर और कुछ अन्य प्रमुख शहरों में घरों और दफ्तरों में चलाई जाएगी। तिरंगे को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार के ‘हर घर तिरंगा’ कैम्पेन के अंतर्गत अगस्त महीने में तीन दिनों के लिए देशभर के 20 करोड़ घरों में फहराया जाएगा।

इस घोषणा के बारे में, कैप्टन ईश्वर ढोलकिया, मैनेजिंग डायरेक्टर, गोल्डी सोलर का कहना है, “यह तिरंगा एक भारतीय के रूप में हमारी पहचान का प्रतीक है। हमें विश्वाोस है कि सरकार का ‘हर घर तिरंगा’ कैम्पेन देशभक्ति का एक नया जोश लेकर आएगा। गोल्डी सोलर गर्व से मेड इन इंडिया कंपनी है और हमारा मानना है कि राष्ट्रीयता को बढ़ावा देने की दिशा में, और हमारे देश के लोगों, जिन्होंने गोल्डी को सफलता की नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद की है, के लिए यह हमारा छोटा-सा योगदान है।”



Source link