राष्ट्रीय

वीआईपी सुरक्षा प्राप्त बृजभूषण सिंह के खिलाफ 4 आपराधिक केस लंबित, बिगड़े बोल और विवादों से है पुराना नाता



हालांकि, डब्ल्यूएफआई प्रमुख के रूप में यौन उत्पीड़न के आरोपों का सामना कर रहे सिंह को 30 से अधिक आपराधिक मामलों में बरी कर दिया गया है, जिनमें से कुछ तो उनकी राजनीतिक यात्रा शुरू होने से पहले ही पंजीकृत हो गए थे। 65 वर्षीय सिंह की हिस्ट्रीशीट के अनुसार, उनके खिलाफ अयोध्या, नवाबगंज, फैजाबाद और दिल्ली में कुल 38 आपराधिक मामले दर्ज थे। अयोध्या में कुल 17, फैजाबाद में 12, नवाबगंज में 8 और दिल्ली में एक मामला था। आईपीसी की कई धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए थे, जिसमें हत्या, हत्या का प्रयास और यूपी गैंगस्टर्स एक्ट, आर्म्स एक्ट सहित अन्य शामिल थे।

बृजभूषण सिंह पर 1993 तक यूपी गैंगस्टर एक्ट के तहत चार बार मामला दर्ज किया गया था। 1993 में समाजवादी पार्टी की सरकार में पूर्व मंत्री विनोद कुमार सिंह उर्फ पंडित सिंह पर हमले से जुड़े 29 साल पुराने मामले में गोंडा जिले की एमपी-एमएलए कोर्ट ने 20 दिसंबर 2022 को उन्हें सभी आरोपों से बरी कर दिया था।



Source link